प्रेरणा लक्ष्य ऐप बच्चों की नही छूटने देगा पढ़ाई, बेसिक शिक्षा मंत्री ने लांच किया ऐप, बच्चों के खीखने का स्तर भी पता चल सकेगा

बेसिक शिक्षा परिषद की ओर से संचालित प्राथमिक और जूनियर विद्यालयों में अगर किसी कारणे बच्चा स्कूल नहीं पहुंचता है तो उसकी पढ़ाई नहीं छूटने पायेगी। इस ऐप के माध्यम से बच्चों के सीखने का स्तर का भी  पता चल सकेगा। इसके लिए बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ सतीश द्विवेदी ने बुधवार को प्रेरणा लक्ष्य ऐप लांच कर दिया है। निशातगंज एससीईआरटी परिसर में बेसिक शिक्षा निदेशक डॉ सर्वेद्र विक्रम बहादुर सिंह और अपर शिक्षा निदेशक ललिता पाण्डेय की मौजूदगी में ऐप लांच करते हुए डॉ द्विवेदी ने कहा कि  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशन में बेसिक शिक्षा विभाग निरन्तर प्रगति की ओर अग्रसर है। मुख्यमंत्री  बच्चों की शिक्षा के प्रति बहुत ही चिंतित रहते है और बच्चों को बेहतर शिक्षा मिले इसका प्रयास लगातार करते है, इसीलिए प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों में फर्नीचर, चहार दीवारी, शौचालय, स्वच्छ पेयजल, विद्युतीकरण सहित आदि सभी आवश्यक व्यवस्थायें करायी जा रही है। बच्चों को बेहतर ढंग से आॅनलाइन शिक्षा प्राप्त करने का कार्य किया जा रहा है। शिक्षक एवं शिक्षिकाओं को नवीन एवं तकनीक शिक्षा प्रदान करने हेतु शिक्षकों को आॅनलाइन प्रशिक्षित करने का कार्य भी किया जा रहा है।

परिवर्तनात्मक असेसमेंट टूल ऐप

डॉ द्विवेदी ने बताया कि प्रेरणा लक्ष्य एप एक परिवर्तनात्मक असेसमेंट टूल है, जिसके माध्यम से शिक्षकों एवं अभिभावकों द्वारा यह जानकारी की जा सकेगी कि बच्चों के सीखने का स्तर क्या है तथा उन्हें कक्षावार बच्चों की कौन सी दक्षताओं की सम्प्राप्ति के लिए अधिक ध्यान दिया जाना है।  यह पूर्णतः निःशुल्क है। एप का प्रयोग आफलाइन किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि इस एप में एससीईआरटी द्वारा विषय विशेषज्ञों के माध्यम से बच्चों के उपयोगार्थ विस्तृत प्रश्नों का निर्माण किया गया है।

बुनियादी भाषा एवं गणित पर विषय पर विशेष ध्यान

 डा. द्विवेदी ने कहा कि सितम्बर, 2019 में महत्वाकांक्षी मिशन प्रेरणा का शुभारम्भ किया गया था। भारत सरकार द्वारा 2020 में घोषित की गई नई शिक्षा नीति में भी बुनियादी गणित एवं भाषा शिक्षण को प्राथमिकता दी गई है। सभी परिषदीय विद्यालयों में अध्ययनरत बच्चों को बुनियादी भाषा एवं गणित में सफल बनाने के लिए एवं मिशन के प्रभावी क्रियान्वयन हेतु मिशन प्रेरणा एवं प्रेरणा तकनीकी फ्रेमवर्क का शुभारम्भ किया गया है।

सभी स्कूलो के पुस्त्कालयों में एनसीईआरटी की किताबें

डा0 द्विवेदी ने कहा कि मिशन प्रेरणा के अन्तर्गत विद्यालयों तथा कक्षा-कक्षों के रूपान्तरण हेतु विभिन्न क्रियाकलाप एवं गतिविधियाँ संपादित की जा रही हैं। जो इस प्रकार है, सभी परिषदीय विद्यालयों में पुस्तकालय हेतु 500 से 1000 एनसीईआरटी की पुस्तकों से युक्त क्रियाशील पुस्तकालय एवं रीडिंग कार्नर स्थापित किये जा रहे, सभी परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में छात्र-छात्राओं द्वारा एक्टिविटी बेस्ड लर्निंग के लिए गणित किट दी जा रही।

100 घंटे के प्रशिक्षण से मजबूत हुए शिक्षक

डॉ द्विवेदी ने बताया कि बुनियादी शिक्षा एवं उपचारात्मक शिक्षा हेतु शिक्षक हस्तपुस्तिकायें-आधारशिला, ध्यानाकर्षण, शिक्षण संग्रह एवं आधारशिला क्रियान्वयन संदर्शिकायें तथा प्रत्येक शिक्षक को शिक्षक डायरी उपलब्ध करायी गयी हैं,   बुनियादी शिक्षा पर सभी शिक्षकों को 100 घण्टे से अधिक का प्रशिक्षण प्रदान किया गया है,   अभिभावकों को दीक्षा एवं रीड एलांग ऐप डाउनलोड कर बच्चों को पढ़ने हेतु प्रेरित किया जा रहा है,  इन हस्तपुस्तिकाओं में दी गयी शिक्षण तकनीकियों एवं बुनियादी शिक्षा पर आधारित लगभग 100 वीडियो विकसित किये गये हैं,।