पीएम मोदी की देश से अपील, 5 अप्रैल को रात 9 बजे, नौ मिनट का सभी करें सहयोग

न्यूज डेस्क। देश भर में कोरोना वायरस से संक्रमण के मामले 2301 हो चुके हैं इसमें 56 की मौत और 156़ मरीज स्वस्थ्य होकर अपने-अपने घरों को पहुंच चुके हैं। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को लॉकडाउन के बीच वीडियो संदेश जारी करते हुए देश से अपील करते हुए कहा कि सभी लोग पांच अप्रैल को रात्रि नौ बजे नौ मिनट का सहयोग करें। कोरोना वायरस कें संक्रमण की रोकथाम के लिए लॉकडाउन पीरियड में पीएम मोदी का यह देश के नाम तीसर संबोधन था। पीएम मोदी ने एक वीडियो मैसेज जारी कर देश से कोरोना वायरस के खिलाफ एकजुट होने की अपील की है। हालांकि, ताली-थाली-शंख-घंटी आदि बजाने की अपील के दौरान लोगों के भीड़ में एकत्र होने की पिछली घटना को देखते हुए पीएम ने लोगों से इस बार विशेष सावधानी बरतने की भी अपील की है।वीडियो संदेश में पीएम ने कहा कि हम सबको मिलकर कोरोना संकट के अंधकार को चुनौती देनी है। इस महामारी को प्रकाश की ताकत का परिचय कराना है। इस 5 अप्रैल को हमें, 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का जागरण करना है। इस दौरान घर की सभी लाइटें बंद करके, घर के दरवाजे पर या बालकनी में, खड़े रहकर, 9 मिनट के लिए मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं।अपने छोटे लेकिन अहम वीडियो संदेश में उन्‍होंने जनता कर्फ्यू में सहयोग के लिए लोगों को धन्‍यवाद कहा। उन्‍होंने कहा कि उस दिन देशभर में तालियों, घंटियों और थाली की आवाज आज पूरी दुनिया में सुनाई दे रही है। दुनिया के दूसरे देश भी इस अनूठे प्रयोग को अपने यहां पर कर उन लोगों का धन्‍यवाद अदा कर रहे हैं जो इस मुश्किल दौर में दूसरों की मदद कर रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि इस जनता कर्फ्यू ने पूरी दुनिया को देश की उस सामूहिक शक्ति का अहसास कराया है जिसके द्वारा इस महामरी के खिलाफ जंग को जीता जा सकता है। समय-समय पर इस शक्ति को खुदको और दुनिया को जताना जरूरी होता है। उन्‍होंने कहा कि लॉकडाउन के बाद अब जब करोड़ों लोग घरों में हैं तो उनमें से कुछ को लग सकता है कि वो अकेला क्‍या करेगा। इतनी बड़ी लड़ाई से अकेले कैसे लड़ सकेंगे। कितने दिन ऐसे और काटने पड़ेंगे। उन्‍होंने कहा कि ऐसा समझने की भूल न करें। हम अपने घरों में जरूर हैं लेकिन कोई अकेला नहीं है। 130 करोड़ लोगों की शक्ति हर किसी के साथ जुड़ी है।
भारत में जनता को इश्‍वर का रूप माना जाता है। कोरोना वायरस के खिलाफ इस लड़ाई में ये जरूरी है हमें अपनी एकजुट रहने की विशाल ताकत का साक्षात्‍कार हो। इसी साक्षात्‍कार से हमें इस जंग से जीतने की शक्ति भी मिलेगी। कोरोना और अंधकार के बीच प्रकाश को जलाए रखना है। जो इससे सबसे अधिक प्रभावित हैं उन्‍हें उजाले की तरफ ले जाना है। कोरोना की वजह से जो अंधकार पैदा हुआ है हमें उसको खत्‍म करना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seven − five =