पाकिस्तान के नेताओं ने कहा इमरान करवा रहे हैं देश की बेइज्जती

न्यूज डेस्क। प्रधानमंत्री जी बस कीजिए बहुत हो गया, देश की और ज्यादा बेईज्जती मत करवाईये, हम आपके आगे हाथ जोड़ते हैं। जी हां ऐसा ही कुछ पाकिस्तान के नेता के वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान के बारे में कह रहे हैं। लेकिन इन सब बातों का इमरान पर कोई खास फर्क नहीं पड़ रहा है। इसीलिए उन्होंने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र महासभा में वही किया जिसका उनके देश के नेताओं को डर था। यूएन में इमरान खान के भाषण देने से पहले पाकिस्तान की प्रमुख विपक्षी पार्टी ‘पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी)‘ ने इमरान खान के विदेश दौरों पर रोक लगाने की मांग की थी। पीपीपी का तर्क था कि इमरान खान विदेशी दौरों पर जाकर पाकिस्तान की बदनामी करवाते हैं। वह जब भी विदेश जाते हैं, पाकिस्तान का घाटा कराकर आ जाते हैं। पीपीपी के सांसद मुस्तफा खोखकर ने दो दिन पहले कहा था अमेरिका के दौरे पर इमरान खान ने कहा सेना और आईएसआई ने अलकायदा को ट्रेनिंग दी थी। इससे पूरे पाकिस्तान का खूब मजाक उड़ा। इससे पहले ईरान दौरे पर उन्होंने कहा था पाकिस्तान आतंकवादियों का देश है।
इमरान खान के यूएन भाषण से पहले पाकिस्तान में उन्हें लेकर एक चर्चा जोरों पर थी कि उन्हें भाषण पढ़कर देना चाहिए, क्योंकि वह बिना पढ़े बोले तो वो कोई बड़ी गलती कर देंगे। ऐसे में वह अपने ही देश की पोल खोल देंगे। इमरान की गलतियों का आलम ये है कि पाकिस्तान के लोगों को उन पर बिल्कुल भरोसा नहीं रहा। लोगों का कहना है कि इमरान ने अमेरिका पहुंचते ही मान लिया कि उनका देश, भारत से जंग लड़ने की हालत में नहीं है। इस बात को लेकर विपक्ष उन पर पहले ही हमलावर था। शुक्रवार को यूएन में वही हुआ जिसका डर था, संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र में वही हुआ। इमरान खान ने केवल पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय मंच पर छीछालेदर कराई, बल्कि उनकी जमकर खिल्ली भी उड़ रही है।
न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक शुक्रवार को इमरान खान यूएनजीए में कश्मीर राग अलापने में इतने मशगूल हो गए कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भारत का राष्ट्रपति बता दिया।
यूएन महासभा में दुनिया के सभी नेताओं को बोलने के लिए तकरीबन 15 मिनट का समय दिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seven + ten =