सभी बैंक खातों को 31 मार्च 2021 तक जोड़ने आदेश, वित्त मंत्री ने बैठक में लिए कई अहम निर्णय

तमाम कोशिशों के बाद भी अभी देश में काफी संख्या बैंक आकाउंट हैं जिन्हें आधार से नहीं जोड़ा गया है। ऐसे में इन सभी को अब आधार से लिंक कर दिया जाये। ये काम समय के अंदर 31 मार्च 2021 तक करना होगा। ये निर्देश वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिए हैं। भारतीय बैंक संघ (आईबीए) की 73वीं सालाना आम बैठक के संबोधित करते हुए सीतारमण ने कहा, ”प्रत्येक खाता 31 मार्च, 2021 तक आधार से जुड़ना चाहिए। उन्होंने डिजिटल तरीके से भुगतान पर जोर देने एवं गैर-डिजिटल भुगतान को यथासंभव हतोत्साहित करने को कहा। देश में खासकर कोरोना वायरस महमारी के बीच डिजिटल और संपर्क रहित भुगतान पर जोर के साथ वित्त मंत्री ने डिजिटल भुगतान माध्यम को बढ़ावा देने की बात कही। सीतारमण ने कहा कि रूपे का उपयोग दुनिया भर में हो रहा है, ऐसे में इसके अलावा कोई अन्य कार्ड देने का मतलब नहीं बनता। रूपे भुगतान कार्ड है जिसे एनपीसीआई ने जारी किया। रिजर्व बैंक और आईबीए की पहल एनपीसीआई देश में खुदरा भुगतान और निपटान प्रणाली का शीर्ष संगठन है।

बैंको दिया ये आदेश

वित्त मंत्री ने कहा कि रूपे वैश्विक हो गया है, तब ऐसे में मुझे नहीं लगता कि भारतीयों को रूपे के अलावा अन्य कार्ड दिये जाएं। अत: रूपे कोर्ड को बढ़ावा दीजिए। यह सुनिश्चित कीजिए कि एनपीसीआई ब्रांड इंडिया उत्पाद बने…। मंत्री ने यह बात ऐसे समय कही है जब सरकार आत्मनिर्भर भारत अभियान को जोर-शोर से बढ़ावा दे रही है।उन्होंने यह भी कहा कि बैंकों को डिजिटल भुगतान को प्रोत्साहित और अन्य रूप से किये जाने को वाले भुगतान को हतोत्साहित करना चाहिए।

बैंकों में आम बोलचाल की भाषा का हो इस्तेमाल
वित्त मंत्री ने कहा, ”यूपीआई हमारे सभी बैंकों में आम बोलचाल का शब्द होना चाहिए। एनपीसीआई द्वारा विकसित यूपीआई यानी एकीकृत भुगतान व्यवस्था के जरिये मोबाइल फोन के माध्यम से एक बैंक खाते से दूसरे खाते में तुरंत पैसे का अंतरण किया जा सकता है।