नियमित स्वच्छता के लिए एनबीएफजीआर के निदेशक ने कर्मचारियों और शोधार्थियों को दिलायी सपथ

लखनऊ। राजधानी में स्थित नेशनल ब्यूरो ऑफ फिश जेनेटिक रिसोर्सेज सेंटर में कर्मचारियों और शोधार्थियों को स्वच्छता की सपथ दिलायी गयी। साथ ही स्वच्छता पखवाड़े का समापन किया गया। निदेशक एनबीएफजीआर डॉ. कुलदीप के लाल के नेतृत्व में पिछले 16 दिसंबर से आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान स्वच्छता को लेकर विषयों पर समीक्षा भी गयी। इस मौके प र अधिकारियों, कर्मचारियों और सफाई कर्मचारियों की सक्रिय भागीदारी से संस्थान परिसर और आस-पास के इलाकों में प्रतिदिन सामान्य सफाई एवं एकल उपयोग प्लास्टिक को प्रतिबंधित करने पर व्यापक अभियान और जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए गए। स्टाफ और शोध छात्रों ने पर्यावरण स्वास्थ्य को अनुकूल और खतरे से मुक्त रखने के लिए स्वच्छता और एकल उपयोग प्लास्टिक के शून्य उपयोग के प्रति अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की। इस अवधि के दौरान छात्रों और किसानों ने परिसर का दौरा किया, जिन्हें प्रदूषण मुक्त जलीय जीवन तथा संतुलित इको-सिस्टम के लाभों विशेष रूप से उच्च उत्पादकता एवं स्वस्थ मानव जीवन के बारे में बताया गया। 23 दिसंबर को किसान दिवस मनाने के दौरान आमंत्रित किसानों को कचरे के उपयोग से धन की बचत और एकल उपयोग प्लास्टिक के न्यूनतम उपयोग के माध्यम से टिकाऊ उत्पादन अवधारणा को सशक्त करने, रीसाइक्लिंग के माध्यम से पानी के विवेकपूर्ण उपयोग द्वारा फार्म गतिविधियों में जल संचयन के विषय में बताया गया। कार्यक्रम ने कर्मचारियों,शोध छात्रों और किसानों को प्रकृति और प्राकृतिक संसाधनों के प्रति मित्रवत व्यवहार के बारे में प्रेरित किया गया जो कि एफएओ के सतत विकास लक्ष्यों के अंतर्गत पानी के नीचे जीवन, भूमि पर जीवन, स्वच्छ जल और समग्र स्वच्छता के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में सहायक होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × five =