नाम रामपलट, काम है यूपी बोर्ड का सिस्टम पलट, छापते हैं नकली उत्तर पुस्तिका पुलिस ने दबोचा

लखनऊ। एशिया का सबसे बड़ा बोर्ड कहलाने वाला माध्यमिक शिक्षा परिषद यूपी बोर्ड में नकल माफियाओं और शिक्षा माफियाओं की सेंध इतनी लंबी हो चुकी है जिसे बंद कर पाना योगी सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती साबित होगा। क्योकि लखनऊ समेत पूरे उत्तर प्रदेश में बोर्ड परीक्षा शुरू होने से पहले ही तमाम तरह के कारनामे सामने आने शुरू हो गये हैं। हरदोई में प्रश्नपत्रों का बंडल गायब हो गया तो वहीं अब जौनपुर में राम पलट नाम का आदमी नकली उत्तर पुस्तिकाओं की छपायी करते रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया।
जौनपुर में एक प्रिटिंग प्रेस में यूपी बोर्ड की नकली उत्तर पुस्तिकाओं की छपायी हो रही थी। इस बारे में जब स्थानीय पुलिस खबर मिली तो प्रिंटिंग प्रेस पर छापेमारी हुई जिसके बाद प्रेस के मालिक राम पलट को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस का दावा है कि प्रेस मालिक के तार नकल माफियाओं से जुड़े हुए हैं। वहीं जौनपुर जिला विद्यालय निरीक्षक उमेश कुमार शुक्ला ने भी प्रिंटिंग प्रेस से जब्त की हुई उत्तर पुस्तिकाओं को असली उत्तर पुस्तिका से मैच कराया तो वह भी हैरान रह गये। उन्होंने उत्तर पुस्तिकाओं के नकली होने की पुष्टि की है।
छापे के दौरान प्रेस मालिक रामपलट खुद कॉपी छापते मिला
डीएम और एसपी की मौजूदगी में भारी पुलिस बल के साथ हुई छापे मारी के दौरान राम पलट खुद कॉपियों को छापता हुआ पाया गया। लाइन बाजार पुलिस के मुताबिक राम पलट हर साल यूपी बोर्ड परीक्षा से पहले कॉपियों की छपायी करता था इसकी सूचना काफी पहले से मिल रही थी। लेकिन हर बार ये बच जाता था। इस बारे में जानकारी देते हुए प्रभारी डीएम आलोक कुमार सिंह ने बताया कि जोगियापुर मोहल्ला स्थित सूरज पुस्तक केन्द्र और प्रिटिंग प्र्रेस में नकली उत्तर पुस्तिकाएं छापे जाने की सूचना मिली थी। जिसमें राम पलट मौर्या को खुद छपायी करते हुए पकड़ा गया। उन्होंने बताया कि आरोपी राम पलट से पूछताछ की जा रही है साथ ही उन लोगों का नाम पता किया जा रहा है जिन्होंने इन पुस्तकों को छापने का आर्डर दिया था।
6 कर्मचारियों को भी पकड़ा गया
एसपी जौनपुर केके चौधरी ने बताया कि छापेमारी के दौरान राम पलट मौर्या खुद कॉपियों की छपायी करते हुए पकड़ा गया। इसके साथ 6 कर्मचारी भी काम पर जुटे हुए थ्ो। इन्हें भी पकड़ा गया लेकिन पूछताछ के बाद इस शर्त पर छोड़ दिया गया कि कभी भी पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है। एसपी ने बताया कि उस नेटवर्क को भी पकड़ने की कोशिश की जा रही है कि जो राम पलट से उत्तर पुस्तिकाओं को छपवाता था। उन्होंने बताया कि एक स्कूल प्रबंधक का नाम सामने आया है उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी गयी है।

और भी नकल माफिया , कॉपी छपने का देते हैं आर्डर
पुलिस के मुताबिक अभी शुरूआती जानकारी मे ये सामने निकलकर आया है कि कई ऐसे नकल माफिया हैं जो कॉपयिों का छपने का आर्डर देते हैं। लेकिन वह लोग कौन हैं राम पलट से ही पूछताछ में आगे पता चलेगा।
इसलिए हो रही थी कॉपियों की छपायी
जिला विद्यालय निरीक्षक जौनपुर के मुताबिक प्रिंटिंग प्र्रेस में छप रही कॉपियों की पहचान करना मुश्किल होगा। जब तक गौर से न देखा जाये तब तक नहीं पता चल पायेगा। जिला विद्यालय निरीक्षक ने बताया कि कॉपियों की छपायी के पीछे का मकसद असली कॉपियों से बदलना था। नकली कापियों पर बाहर से ही लिखा जाता उसके बाद पैसे देकर पास होने वाले छात्रों की कॉपियों से आसानी से बदल दिया जाता। लेकिन पहले ही पकड़े जाने से अब ये ख्ोल नामुमकिन होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two + 1 =