सीएम योगी के हाथों सम्मान पाकर खुश हुए बोर्ड परीक्षा के मेधावी, चेक के साथ मिला गिफ्ट में टैबलेट 

लखनऊ। बोर्ड परीक्षा में में टॉपर रहे मेधावियों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को सम्मानित किया। सम्मान पाकर खुश हुए मेधावियों ने मुख्यमंत्री को भी धन्यवाद दिया। लोहिया विधि विश्वविद्यालय के सभागार में आयोजित इस सम्मान समारोह यूपी बोर्ड, सीबीएसई बोर्ड, आईसीएसई बोर्ड से पढ़ाई कर 10 और बारहवीं की परीक्षा पास करने वाले मेधावियों को सम्मानित किया। गया। इस मौके पर सबसे पहले माध्यमिक शिक्षा राज्य मंत्री गुलाब देवी ने कहा कि प्रदेश सरकार ने सभी मेधावियों को सम्मानित कर उनका हौसला बढ़ाया है। आने वाले कल का भारत इन्हीं मेधावियसों के हाथ में हैं। उन्होंने माध्यमिक शिक्षा के स्तर में सुधार को लेकर उठाये गये कदम के पीछे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बड़ा योगदान बताया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने माध्यमिक शिक्षा परिषद्, प्रयागराज के प्रथम दस स्थान प्राप्त करने वाले 37 मेधावी, माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद, के प्रथम तीन स्थान प्राप्त करने वाले छह मेधावी , काउंसिल फार दि इण्डियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन्स के 10 सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले 26 व केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद, के 10 सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले 33 मेधावी छात्र-छात्राओं (कुल 102) को एक लाख रूपये, एक टैबलेट, मेडल, कैप एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान कर तथा उनके माता एवं पिता को शॉल एवं पगड़ी से सम्मानित किया किया। इस तरह से कुल 1695 मेधावियों को सम्मानित किया गया। इसमें 1593 मेधावयिों को टैबलेट के साथ 21 हजार के चेक भी प्रदान किए गये।
गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा देने में शिक्षकों को अहम योगदान
इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाईस्कूल की एवं इण्टरमीडिएट परीक्षाओं में प्रदेश स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले मेधावी विद्यार्थियों के 18 प्रधानाचार्यों को भी सम्मानित किया किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि छात्रों को अच्छी शिक्षा प्रदान करने व उनको एक लक्ष्य तक पहुंचाने में शिक्षकों का अहम योगदान होता है। उन्होंने कहा कि विद्यालय के शिक्षक जब गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करते हैं तभी ये मेधावी हमारे बीच आते हैं।
यूपी बोर्ड की अगले सत्र में 15 और 12 दिन में समाप्त होंगी परीक्षाएं
लखनऊ। इस मौके पर उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कहा कि प्रदेश में माध्यमिक शिक्षा के स्तर में बहुत सुधार किया गया है। एक वक्त था जब तीन-तीन महीने परीक्षाओं का कार्यक्रम ही चलता रहता था लेकिन अब ये शेड्यूल काफी कम समय के लिए सिमट गया है। उन्होंने कहा कि अगले सत्र की यूपी बोर्ड परीक्षाएं हाईस्कूल जहां 12 दिनों तक और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं 15 दिनों तक चलेंगी।  उप मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले ये स्थिति थी कि गर्मियों की छुट्टïी की अलावा इतनी अन्य छुट्टिïयां हो जाती थी कि पढ़ाई व्यवस्था सही रूप से हो ही नहीं पाती थी।

हर सरकारी संपत्ति नहीं होती है लावारिस-मुख्यमंत्री
लखनऊ। यूपी बोर्ड के मेधावियों के सम्मान समारोह के मौके पर मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि आज अधिकांश लोगों की सोच हो चुकी है कि हर सरकारी सामान लावारिश है लेकिन ऐसा सोचना गलत है। उन्होंने कहा कि हर सरकारी संपत्ति लावारिस नहीं होती है बल्कि उसके हम सब वारिस होते हैं, हम सभी के टैक्स का उसमें पैसा लगा होता है। उन्होंने कहा कि सरकारी विद्यालय हो या उसमें रखा सामान वह हम सभी लोगों का है, ऐसे में उसकी रक्षा करना भी हमारा दायित्व है।
टॉपर के नाम से बनेगी मोहल्ले की एक सडक़
डिप्टी सीएम डा. दिनेश शर्मा ने कहा कि सभी मेधावियों के नाम से उनके मोहल्ले में एक सडक़ बनायी जायेगी। ताकि मेधावयिों का नाम रोशन हो सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

15 − 3 =