एलटी ग्रेट में भी अब लिखित परीक्षा से होगी शिक्षकों की सीधी भर्ती

india news times.in

लखनऊ। प्रदेश सरकार ने प्रदेश में संचालित अशासकीय सहायता प्राप्त अल्पसंख्यक माध्यमिक विद्यालयों में संस्था के प्रधान (प्रधानाचार्य) और अध्यापकों की नियुक्ति प्रक्रिया में संशोधन कर दिया है। ऐसे में कॉलेजों के प्रबन्ध तंत्र द्बारा साक्षात्कार के माध्यम से की जाने वाली नियुक्ति प्रक्रिया को तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दी है। रिक्त पदों की सीधी भर्ती अब सीधे साक्षात्कार के स्थान पर माध्यमिक शिक्षा निदेशक की ओर से चयनित निजी संस्था के माध्यम से लिखित परीक्षा आयोजित की जाएगी।

भर्ती के लिए इस तरह होगी परीक्षा
– संस्था के प्रधान प्रवक्ता के लिए 9० अंको की होगी लिखित परीक्षा
– 1० अंको का होगा साक्षात्कार
-सहायक अध्यापकों के चयन के लिए 1०० नंबर की होगी परीक्षा
-शिक्षकों का साक्षात्कार नहीं होगा

इस अधार पर तैयार होगी चयनित अभ्यर्थियों की सूची
स्क्रीनिग टेस्ट में रिक्त पद के सापेक्ष प्रत्येक पद हेतु श्रेष्ठता के आधार पर 5 चयनित अभ्यर्थियों की सूची तैयार की जाएगी। चयनित संस्था तैयार सूची को संस्था प्रधान हेतु सम्भागीय संयुक्त शिक्षा निदेशक तथा शिक्षकों हेतु जिला विद्यालय निरीक्षक को उपलब्ध करायेगा। इसके बाद सम्भागीय संयुक्त शिक्षा निदेशक एवं जिला विद्यालय निरीक्षक द्बारा चयनित सूची (पैनल) सम्बन्धित संस्था के प्रबन्धक को इस आशय से उपलब्ध करायी जाएगी कि पैनल में चयनित अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्रों का सम्यक् परीक्षण कर, सम्बन्धित चयन समिति संस्था प्रधान एवं प्रवक्ता पद हेतु चयनित अभ्यर्थियों का 1० अंकों का साक्षात्कार करे।
6 माह के अंदर देना होगा अनुमोदन
चयन समिति संस्था प्रधान एवं प्रवक्ता पद के लिए लिखित परीक्षा तथा साक्षात्कार में प्राप्त अंकों के आधार पर चयन करेगी। चयन सूची को सक्षम अधिकारी द्बारा ०6 माह के अन्दर अनुमोदन प्रदान करना होगा, ऐसा न करने पर स्वत: अनुमोदित समझा जाएगा। सहायक अध्यापकों के उपलब्ध कराये गये पैनल में चयनित अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्रों का सत्यापन कराये जाने के उपरान्त श्रेष्ठता क्रम के अनुसार प्रबन्धक द्बारा जिला विद्यालय निरीक्षक के अनुमोदन के पश्चात नियुक्ति की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

19 − one =