यूपी में प्राइवेट स्कूलों की मान्यता के लिए नियमों की अनदेखी कर रिपोर्ट लगाई तो होगी कार्रवाई, बदल गये नियम

निजी स्कूलों की मान्यता के लिए प्रदेश सरकार ने आवेदन की प्रक्रिया भले ही ऑनलाइन कर दी है। लेकिन ऑनलाइन आवेदन के बाद फाइनल रिपार्ट शिक्षा विभाग के अधिकारियों को ही लगानी है, इस अगर कोई सांठगांठ कर नियमों के अनदेखी कर रिपोर्ट लगाये जाने के मामले सामने आते हैं तो इस पर अधिकारियों की जवाबदेही तय होगी, दोषी पाये जाने पर कार्रवाई भी की जायेगी। इस संबंध में विभाग के उच्च अधिकारियों ने बताया कि मान्यता के नियमों का पालन करना अब सभी निजी स्कूलों के लिए अनिवार्य होगा। बात दें कि बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ सतीश चन्द्र द्विवेदी  की ओर से मान्यता हेतु आॅनलाइन विद्यालय मान्यता प्रणाली पोर्टल की शुरूआत की जा चुकी है। जिसमें विद्यालयों की मान्यता ऑनलाइन किए जाने का प्रावधान किया गया है मान्यता के प्रकरण को जनहित गारंटी योजना के तहत सम्मिलित किया गया है जिसमें सभी कार्यवाही एक माह में पूर्ण किए जाने का प्रावधान है इस प्रकार निजी प्रबंधन द्वारा विद्यालय की मान्यता आवेदन करने की तिथि से 1 माह के अंदर निस्तारित किया जाना अनिवार्य किया गया है। ऐसे में निजी स्कूलों के आवेदन में तो आसानी हो जायेगी लेकिन नियमों को लेकर गुमराह नहीं किया जा सकेगा। इसके साथ ही नई शिक्षा नीति के तहत जारी गाइडलाइन का भी पालन करना होगा।

बीईओ परखेंगे मानक

मान्यता के लिए आवेदन करने वाले निजी स्कूलों के मानकों को परखने की जिम्मेदारी खंड शिक्षा अधिकारियों की होगी। हालांकि इससे पहले भी खंड शिक्षा अधिकारियों को ही रिपोर्ट देनी होती थी लेकिन इस बार से काफी सक्रियता से काम करना होगा।

अप्रैल के बाद चेक होंगे स्कूल मानक

वहीं बातचीत में बेसिक शिक्षा अधिकारी दिनेश कुमार ने बताया कि अप्रैल के बाद निजी स्कूलों के मानको को चेक किए जाने का अभियान चलेगा, ऐसे में जिनके मानक पूरे नहीं होंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने बताया कि प्रबंधन को पहले नोटिस जारी किया जायेगा।