बजट की घोषणा पर अमल हुआ तो किसानो को मिलेगा निश्चित लाभ बोले अर्थशास्त्र के प्रोफेसर

लखनऊ। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को लोकसभा में आम बजट 2020 पेश किया। बजट आने के बाद विश्वविद्यालयों के अर्थशास्त्र के प्रोफेसरों से अमृत विचार ने उनकी राय जानी तो प्रोफेसरों ने कहा कि बजट में किसानों और शिक्षा व स्वस्थ्य पर विशेष फोकस किया गया है। यदि बजट में पर पूरी तरह से अमल हो गया तो निश्चित ही परिवर्तन देखने को मिलेगा। प्रोफेसरों ने कहा कि पिछले 20 सालों में देखें तो ऐसा कोई बजट नहीं आया है।
बजट में मोदी सरकार ने किसानों और शिक्षा स्वस्थ्य पर विशेष फोकस किया है, एजुकेशन को लेकर जो बजट तय किया गया है उससे निश्चित ही बदलाव देखने को मिलेगा। बशर्ते उसपर अमल होना चाहिए। साथ ही किसानों की जो पॉलिसी है उसको सरल करने की जरूरत पड़ेगी। क्योंकि जानकारी के अभाव में किसान उसका लाभ नहीं ले पाते है।
प्रो. सनातन नायक अर्थशास्त्र विभाग बीबीएयू
बजट में कई चीजों और फोकस करने की जरूरत थी लेकिन जो बजट आया है वह भी ठीक है। देश में बुनियादी ढांचे के विकास और रोजगार सृजन के लिए सरकार ने 103 लाख करोड़ रुपये की अवसंरचना परियोजनाएं शुरू की हैं। इन परियोजनाओं से रोजगार बढ़ेंगे और राजमार्गाें के निर्माण में तेजी आयेगी तो तभी देश की तस्वीर बदल सकती है।
प्रो. आशीष रस्तोगी बीबीएयू
सरकार ने बजट बहुत ही अच्छा पेश किया है, किसानों की समस्या को ध्यान में रखते हुए जो घोषणा की है यदि बजट के अनुसार धरातल पर काम भी हुआ तो मोदी सरकार जिस तरह से किसानों की आय को दोगुना करने का दावा करती रही है, उससे ऐसा लगता है कि 2022 तक किसानों की भी तस्वीर बदल जायेगी।, रोजगार के भी अवसर बढ़ेंगे।
प्रो. एनएपमी वर्मा बीबीएयू अर्थशास्त्र
बजट में आर्थिक सुधारों के लिए विशेष ध्यान रखा गया है। जिसमें किसानों के साथ-शिक्षा और स्वास्थ्य पर फोकस किया गया है। सरकार ने यह भी ध्यान रखा है कि समाज की सेकेंड जनेरेशन को सेंटर स्टेट में कैसे लाया जाये। सरकार ने जो बजट पेश किया है, वैसा बजट पिछले 20 सालों में कभी नहीं आया है।
डॉ अरविंद मोहन अर्थशास्त्र प्रोफेसर लविवि
सरकार का यह बजट निश्चित ही बदलाव लेकर आयेगा। देश में जिस तरह से बेरोजगारी का दावा किया जा रहा था, बजट के माध्यम जिन नीतियों का दावा किया गया है उससे निश्चित ही बदलाव आयेगा। साथ ही किसानों के लिए बहुत ही अच्छा बजट है, साथ ही अनाज भंडारण और ग्रामीणों को बराबरी पर लाने के लिए विशेष फोकस किया गया है।
डॉ मनोज अग्रवाल अर्थशास्त्र प्रोफेसर लविवि
इस बार किसानों के लिए योजनाओं को लेकर जो बजट की घोषणा की गयी है, उसमें कुछ नीतियां भ्रामक है, इस पर सरकार को जल्द ही स्थिति स्पष्ट करना होगा। हालंाकि सरकार ने जो सोलर एनर्जी पर फोकस किया है इससे किसानों को लाभ होगा, देश में उर्जा सरंक्षण की बेहद आवश्यकता है। लेकिन किसानों को लोन आसानी से मिलेगा तो जरूर बदलाव आयेगा।
डॉ रंजीत प्राफेसर अर्थशास्त्र लविवि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × two =