नेपाल में भी अयोध्या की तरह बनेगा भव्य राम मंदिर, प्रधानमंत्री केपी ओली ने जारी किया निर्देश

पड़ोसी देश नेपाल में भी एक भव्य राम मंदिर बनाया जायेगा। यहां के प्रधानमंत्री केपी ओली ने एक भव्य मंदिर बनाये जाने के लिए निर्देश भी जारी कर दिया है। दरअसल प्रधानमंत्री ओली असली अयोध्या को लेकर अपना शुरू से राग बता रहे हैं। पिछले महीने उन्होंने भगवान राम का जन्मस्थान नेपाल में होने का दावा भी किया था। जिसके बाद काफी सवाल उठे थे और नेपाल के ही नेताओं ने इस बाता विरोध भी किया था और राम जन्म स्थली अयोध्या ही बताया था।

नेपाल मे माडी में बनेगा राम मंदिर
नेपाल सरकार ने माडी में राम मंदिर बनाये जाने का फैसला किया है। पीएम ओली ने थोरी और माडी के स्थानीय जनप्रतिनिधियों को भव्य मंदिर बनाने के लिए योजना तैयार करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही मॉडल भी तैयार कराये जाने के दिशा निर्देश जारी किए हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पिछले दिनों राम नाम पर किए गयी टिप्पणी के बाद प्रधानमंत्री ओली चौतरफा घिरने के बाद ये कदम उठाने जा रहे हैं।

पीएम ओली का ये है दावा
नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली का दावा है कि भगवान का राम का जन्म नेपाल की अयोध्यापुरी में हुआ था। उन्होंने माडी नगरपालिका का नाम बदलकर अयोध्यापुरी रखने का भी निर्देश दिया है। यहां के आसपास इलाके की जमीन का अधिग्रहण करके अयोध्या की तरह ही भव्य राम मंदिर बनाने के लिए कहा है, जहां राम-सीता और लक्ष्मण की मूर्ति भी स्थापित होगी।

इस बयान के बाद पीएम ओली की हुई थी फजिहत
बीते दिनों नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली ने विवादित बयान देते कहा था, ‘वास्तविक अयोध्या नेपाल में है, भारत में नहीं। भगवान राम का जन्म दक्षिणी नेपाल के थोरी में हुआ था। हालांकि वास्तविक अयोध्या बीरगंज के पश्चिम में थोरी में स्थित है, भारत अपने यहां भगवान राम का जन्मस्थल होने का दावा करता है। ओली ने कहा था कि इतनी दूरी पर रहने वाले दूल्हे और दुल्हन का विवाह उस समय संभव नहीं था जब परिवहन के साधन नहीं थे। उन्होंने ये भी कहा था, ‘वाल्मीकि आश्रम भी नेपाल में है और जहां राजा दशरथ ने पुत्र के लिए यज्ञ किया था वह रिडी में है जो नेपाल में है। चूंकि दशरथ नेपाल के राजा थे यह स्वाभाविक है कि उनके पुत्र का जन्म नेपाल में हुआ था इसलिए अयोध्या नेपाल में है। इस बयान के बाद कड़ी आपत्तियां भी आयी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.