सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल को रोकने में सरकार का अहम योगदान-डा. दिनेश शर्मा

न्यूज डेस्क। सिंगल यूज प्लास्टिक हमारे लिए बेहद खतरनाक है, इसके इस्तेमाल से बचना चाहिए, हम सभी की जिम्मेदारी है कि सिंगल यूज प्लास्टिक की जगह हमें कपड़े से बने थैले का इस्तेमाल करना चाहिए, ये बात प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कही। श्री शर्मा इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित तीन दिवसीय 12वें अर्बन मोबिलिटी इंडिया कॉन्फ्रेंस के समापन समारोह के अवसर पर संबोधित कर रहे थे। डॉ शर्मा ने इस अवसर पर कहा कि शहरी विकास में नवाचार को बढ़ावा देते हुए शहरों को विश्वस्तरीय शहरों की श्रेणी में लाना सरकार का लक्ष्य है। प्रदेश सरकार स्मार्ट शहरों को विकसित करने की दिशा में बहुत तेजी से आगे बढ़ रही है। शहरी आबादी को समस्त आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध कराना सरकार की अहम जिम्मेदारी है। सरकार इस दिशा में तेजी से काम कर रही है।
उहोंने कहा कि पूरे देश से सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल को पूरी तरह से समाप्त करने की माननीय प्रधानमंत्री जी की मुहिम को आगे बढ़ाने में उत्तर प्रदेश सरकार ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है और पूरे प्रदेश से सिंगल यूज प्लास्टिक को वैधानिक रूप से प्रतिबंधित कर दिया गया है। केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं जैसे अमृत, हृदय, स्मार्ट सिटी आदि में सहभागिता की दिशा में भी उत्तर प्रदेश ने अग्रणी योगदान दिया है। उन्होंने कहा कि देश में 2014 के बाद से शहरी विकास की दृष्टि से सराहनीय कार्य किया गया है। सरकार शहरी आबादी को समस्त आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने की दिशा में काम कर रही है। इस अवसर पर उपस्थित नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन ने कहा कि पूरे देश एवं प्रदेश को इस कांफ्रेंस का लाभ मिलेगा। केंद्र सरकार की सभी योजनाओं में प्रदेश सरकार का अहम योगदान है। शहरी आबादी को सुरक्षित एवं सुलभ परिवहन की सुविधा प्रदान करना सरकार की प्राथमिकता है। बढ़ते हुए शहरीकरण को देखते हुए शहरी क्षेत्रों के समस्त आधारभूत सुविधाओं को उपलब्ध कराया जाना सरकार का कर्तव्य है।

शाक्ति एजुकेशनल एण्ड वेलफेयर ऐसोसिएशन सेवा संस्था भी चला रही है सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ अभियान

-मेयर संयुक्ता भाटिया ने भी लखनऊ वासियों से की अपील, स्कूलों में किया गया जागरुक

सेवा संस्था की पहल पर एलेन हाउस पब्लिक स्कूल के बच्चों के साथ शिक्षक और अभिभावक भी हुए अभियान में शामिल

लखनऊ। सिंगल यूज प्लास्टिक को लेकर लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया भी कहती हैं ये प्लास्टिक हमारे देश के लिए बेहद खतरा है, इसके रोकथाम के लिए जमीनी स्तर पर काम करने की जरूरत है, लोगों को जागरुक करने की जरूरत है, यदि इसको लेकर हम समय से नहीं चेते तो आने वाले दिनों में हमारे लिए यह बेहद खतरनाक साबित होगी। सेवा संस्था की मुहीम को उन्होंने समर्थन देते हुए कहा कि इसी तरह से संस्थाएं अगर अपनी जिम्मेदारी निभायें तो समाज में बहुत परिवर्तन हो सकता है। सेवा की इस मुहीम में स्कूली बच्चों के साथ-साथ अभिभावकों ने भी अपना साथ दिया और सपथ ली है कि वह सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करेंगे। इसके अलावा पीजीआई के डॉक्टरों ने भी कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक जितनी जल्द बंद हो सके बंद किया जाना चाहिए, नहीं तो परिणाम भयानक होंगे।

दिल्ली पब्लिक स्कूल के बच्चे और पीजीआई के डॉक्टर भी आये समर्थन में

सेवा संस्था की पहल पर सिंगल यूज प्लास्टिक को न इस्तेमाल करने की सपथ दिलाते डॉ पीके गुप्ता साथ में दिल्ली पब्लिक स्कूल इंदिरा नगर ब्रांच के बच्चे व संस्था के पदाधिकारी
सिंगल यूज प्लास्टिक का न इस्तेमाल करने के लिए इंदिरा नगर ब्रांच दिल्ली पब्लिक स्कूल और पीजीआई के डॉक्टरों ने भी शपथ ली। बीते दिनों पीजीआई के रसूलपुर वन में एलेन हाउस पब्लिक स्कूल और सेवा संस्था की ओर से आयोजित सीड बम और सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ जागरूकता अभियान के दौरान दिल्ली पब्लिक स्कूल बच्चे शामिल हुए जिसमें इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ पीके गुप्ता, व पीजीआई के अन्य डॉक्टर भी शामिल हुए।
सिंगल यूज प्लास्टिक की रोक के लिए सख्ती भी जरूरी-डॉ पीके गुप्ता                                    सिंगल यूज प्लास्टिक बेहद खतरनाक है, इसके लिए जागरूकता अभियान तो ठीक है साथ में सख्ती की भी आवश्कयता है। ये बात डॉ पीके गुप्ता ने कही। डॉ गुप्ता ने सेवा संस्था की मुहीम की भी सराहना की और लोगों को सिंगल यूज प्लास्टिक न इस्तेमाल करने की सपथ भी दिलायी।

posted-by Ravi Gupta

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen − 6 =