सरकार ने मांगा एससी-एसटी कर्मचारियों का डाटा, ईपीएफओ भेज रहा कंपनियों को नोटिस

न्यूज डेस्क। एससी एसटी कर्मचारियों का डाटा सभी कंपनियों को अब देना होगा। सरकार ने ये जानकारी कंपनियों से जल्द से जल्द देने को कहा है। इस संबंध में सभी कंपनियों को ईपीएफओ नोटिस भी जारी कर रहा है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सरकार निजी कंपनियों से यह जानकारी मांग रही है कि उनके प्रतिष्ठान में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति वर्ग के कितने कर्मचारी हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक क्षेत्रीय भविष्य निधि कार्यालयों के द्वारा दिल्ली, बेंगलुरु, चेन्नई की निजी फर्म को जानकारी देने के लिए ई-मेल भेजा जा रहा है और सारी जानकारी मेल मिलने के 24 घंटे के भीतर देने को कहा गया है। प्रतिष्ठित न्यूज चैनल आजतक पर चल रही खबर के मुताबिक निजी कंपनियों में आरक्षण देने की कई संस्थाएं मांग करती रही हैं, ऐसे में इस तरह के आंकड़े मांगे जाने से फिर से कयास उठने लगे हैं कि सरकार आखिर ऐसी जानकारी क्यों चाहती है।
आजतक के सहयोगी  बिजनेस टुडे इस बात की पुष्टि की है कि दिल्ली और चेन्नई की कई कंपनियों को पीएफ ऑफिस से इस तरह के ई-मेल हासिल हुए हैं. हालांकि कंसल्टेंट ने कहा कि मुंबई और पुणे के उनके ग्राहकों ने ऐसे किसी मेल न मिलने की बात कही है. लेकिन दिल्ली स्थ‍ित एक एचआर कंसल्टेंसी के फाउंडर ने बताया कि बेंगलुरु और चेन्नई के अलावा दिल्ली स्थ‍ित उसके क्लाइंट को भी ऐसे ई-मेल हासिल हुए हैं। नोटिफिकेशन किसी एक सेक्टर या इंडस्ट्री से संबंधित नहीं है, बल्कि यह किसी क्षेत्रीय पीएफ कार्यालय के तहत आने वाली सभी कंपनियों को भेजा गया है.
ये जानकारी देनी होगी
-कंपनी का पूरा नाम
-कुल कर्मचारियों की संख्या
-इसमें एससी कर्मचारियों की संख्या कितनी है
-एसटी कर्मचारियों की कितनी संख्या है
कंपनियों को भेजे गये ईमेल में लिखा है ये मैसेज
ई-मेल के सब्जेक्ट में लिखा गया है- ‘फर्निशिंग ऑफ डिटेल ऑफ एससीएसटी एम्प्लॉईज एम्प्लॉयड इन योर एस्टेब्लिशमेंट-मोस्ट अर्जेंट. यानी आपके प्रतिष्ठान में नियुक्त एससीएसटी कर्मचारियों का विवरण पेश करना-बेहद जरूरी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × one =