लड़की की सहमति महात्वपूर्ण-केरल लव जिहाद मामला-सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। केरल लव जेहाद के मामले में आज सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि लड़की की सहमति महात्वपूर्ण है। पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने पूछा था कि धर्म परिवर्तन कर निकाह करने वाली अखिला उर्फ़ हदिया की शादी को हाई कोर्ट कैसे रद्द कर सकता है? इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने केरल में इस तरह के मामलों पर गIइ से जांच कर रिपोर्ट देने को कहा था। हदिया के पति होने का दावा करने वाले शफीन जहां ने NIA जांच का आदेश वापस लेने की मांग की है। हदिया के पिता का कहना था कि उनकी बेटी इस वक्त सही मनोदशा में नहीं है, जिसके बाद कोर्ट ने इस मामले की जांच NIA को दी थी, लेकिन NIA इस मामले में लड़की से पूछताछ नहीं कर सकी है। केरल हाई कोर्ट ने युवक के हिदू युवती के साथ विवाह को लव जिहाद मानते हुए रद्द कर दिया था। 24 वर्षीय हदिया शेफिन का जन्म हिन्दू परिवार में हुआ था और उसका नाम अखिला अशोकन था। उसने परिवार की इजाजत के बिना मुस्लिम युवक से विवाह किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 − 3 =