सरकारी मेडिकल कॉलेजों में पहली बार ई-हास्पिटल इंफारमेशन सिस्टम शुरू

लखनऊ। राजधानी समेत पूरे प्रदेश में प्रदेश की जनता को तनावरहित के साथ अच्छी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराये जाने के उद्देश्य से प्रदेश के सरकारी मेडिकल कॉल्ोजों में ई-हास्पिटल इंफारमेशन सिस्टम की शुरू हुई। इसका शुभारम्भ तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग की नवीन विभागीय वेबसाइट की शुरुआत चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ‘गोपाल जी’ ने योजना भवन के सभागार में किया।  इस अवसर पर श्री टण्डन ने कहा कि प्रदेश के सरकारी मेडिकल कालेजों में प्रथम बार रोगियों की सुविधा हेतु ई-हास्पिटल इंफारमेशन सिस्टम की शुरुआत की जा रही है, जिसके अतंर्गत प्रथम चरण में वर्ष 2००5 के पूर्व से स्थापित ०6 राजकीय मेडिकल कालेजों यथा कानपुर, आगरा, झांसी, मेरठ, गोरखपुर एवं इलाहाबाद तथा जनपद कानपुर में स्थापित जेके कैंसर संस्थान तथा हृदय रोग संस्थान में इसे लागू किया जाएगा। इस बहुपयोगी योजना को एनआईसी के सहयोग से प्रारम्भ किया जा रहा है। वस्तुत: ई-हास्पिटल इंफारमेशन सिस्टम एक वेव आधारित पोर्टल है, जिसके माध्यम से रोगियों को 2० से अधिक मॉड्यूल जो कि रोगी पंजीकरण,ओपीडी, आईपीडी, वार्ड, आईसीयू, ओटी प्रबंधन, फार्मेसी, प्रशासनिक प्रबंधन इत्यादि की सुविधा प्राप्त होती है।
रोगियों को पंजीकरण के समय ही मिलेगा यू आईडी नम्बर
चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने कहा कि रोगियों को उनके पंजीकरण के समय ही एक यूआईडी नम्बर प्रदान किया जाएगा, जिसके आधार पर रोगियों को औषधियां, जांच रिपोर्ट, चिकित्सकीय परामर्श, चिकित्सीय संदर्भ इत्यादि की जानकारी तत्काल प्राप्त हो सकेगी। यही नहीं इस यूआईडी नम्बर के आधार पर ही जटिल रोगों से ग्रसित मरीज के प्रकरण में चिकित्सकों द्बारा मरीज की ऑनलाईन केस हिस्ट्री का परीक्षण करते हुए उचित परामर्श दिया जाना भी सम्भव हो सकेगा।
वर्तमान वेबसाइडों से नहीं होता समाधान
चिकित्सा शिक्षा विभाग की नवीन विभागीय वेबसाइट लांच करते हुए चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने कहा कि वर्तमान मंे संचालित वेबसाइटों में विभाग की समस्त योजनाएं, सूचनाएं एवं निर्णयों संबंधी जानकारियां समाहित न होने से आम जनता को समस्याओं का सामना करना पड़ता है। हमारी सरकार द्बारा समस्त विभागीय जानकारियों एवं शासन द्बारा समय-समय पर जनकल्याण में लिए गए निर्णयों, कल्याणकारी योजनाओं से आम जनमानस तथा चिकित्सा/पैरामेडिकल पाठ्यक्रमों में अध्ययनरत विद्यार्थियों को अवगत कराये जाने के उद्देश्य से नवीन विभागीय वेबसाईट का उद्घाटन किया जा रहा है।
पोर्टल के माध्यम से शोधकर्ताओं को मिलेगी बीमारियों की जानकारी
प्रमुख सचिव, चिकित्सा शिक्षा डा. रजनीश दुबे ने बताया कि यह योजना इस आधार पर भी अत्यंत महत्वपूर्ण है कि पोर्टल के माध्यम से शोधकार्ताओं को नवीन बीमारियों, उनके ईलाज की सुगम पद्धति एवं औषधियों के विषय में विशुद्ध आंकड़े प्राप्त हो सकेंगे, जो भविष्य में जटिल रोगों के निदान की नवीनतम तकनीक विकसित करने में सहायक सिद्ध होंगे तथा इसका लाभ जनमानस को भी यथासमय प्राप्त हो सकेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − fourteen =