यूपीकोका पर चर्चा आज , मायावती ने कहा होगा कानून का दुरुपयोग, अन्य दलों ने भी साधा निशाना

लखनऊ। प्रदेश सरकार ने बुधवार को संगठित अपराधियों पर अंकुश लगाने के लिए उत्तर प्रदेश कंट्रोल आफ ऑर्गनाइज्ड क्राइम एक्ट यूपीकोका विध्ोयक विधानसभा में बिल पेश किया। इस बिल पर आज चर्चा भी होनी है। लेकिन उससे पहले ही विपक्षी दलों ने यूपी कोका को लेकर प्रदेश सरकार पर हमला बोल दिया है। ऐसे में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार बदले की भावना से यूपीकोका ला रही है तो वही बसपा सुप्रीमों ने इसे लागू करने पर सड़क पर उतरने की चेतावनी दी है। जबकि कांग्रेस ने भाजपा की इच्छा शक्ति में कमी बतायी है।

यूपी का इस्तेमाल दलितों और पिछड़ों पर होगा-मायावती
यूपीकोका विध्ोयक पेश होने के बाद बसपा सुप्रीमों ने प्रदेश सरकार की मानसिकता पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि इस कानून का दुुरुपयोग होगा और दलितों और पिछड़ों पर इसका दुरुपयोग किया जायेगा। उन्होंने कहा कि बसपा इस नए कानून का विरोध करती है तथा जनहित में इसे वापस लेने की मांग भी करती है। प्रदेश में अब कानूनों का इतना गलत इस्तेमाल हो रहा है कि भाजपा का कोई भी व्यक्ति जातिगत द्बेष में सीधा थाना चला जाता है तो पुलिस भी मजबूरी में गलत मुकदमा कायम करती है। यहां तक कि उर्दू, जो कि हंिदूी के बाद इस राज्य की दूसरी सरकारी भाषा है, में शपथ ग्रहण करने पर बीएसपी के अलीगढ़ के पार्षद पर साम्प्रदायिक भावना भड़काने का मुकदमा दर्ज कर लिया गया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने अपराधियों व माफिया को चिह्न्ति करने का जो काम किया है, उसमें भी कमजोर वर्ग के लोगों को ही ज्यादातर सूचीबद्ध किया गया। है।
भाजपा में है इच्छा शक्ति की कमी-कांग्रेस प्रवक्ता वीरेन्द्र
यूपीकोका विध्ोयक विधानसभा में पेश होने के बाद कांग्रेस भी अपनी नाराजगी जाहिर करने में पीछे नहीं है। ऐसे में कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता वीरेंद्र मदान ने कहा कि भाजपा सरकार में इच्छा की कमी है। शायद यही कारण कि वह तमाम तरह के कानून का जाल बिछाने में जुटी हुई है। उन्होंने कहा कि अपराधों पर अंकुश लगाने को वर्तमान में कानूनों की कमी नहीं है लेकिन सरकार उनको लागू नहीं कर पाती। मदान का कहना है कि जनता को गुमराह करना चाहती है इसलिए आए दिन नए कानून बनाए जा रहें है।
रालोद ने कहा कि जनता का ध्यान बांटने की हो रही कोशिश
इस विध्ोयक के पेश होने के बाद राष्ट्रीय लोकदल ने भी अपनी नाराजगी जाहिर की है। पार्टी के मीडिया प्रभारी अनिल दुबे ने कहा कि भाजपा सरकार जनता का ध्यान बटाने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में मौजूदा कानून किसी भी स्तर पर कमजोर नहीं है। उन्होंने कहा कि एक से बडे एक कानून उपलब्ध है ऐसे में उन कानून को दरकिनार नये काूनन बनाना उचित नहीं है।

विपक्ष की आवाज दबाने के लिए सरकार ला रही यूपी कोका
योगी सरकार पर पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि प्र्रदेश सरकार बदले की भावना से निर्णय ले रही है। उन्होंने कहा कि यूपीकोका लाने का मतलब साफ है कि विपक्ष की आवाज को दबाया जायेगा। उन्होंने कहा कि अपराधियों पर लगाम कसने की बाद की बात है इस कानून से भाजपा का राजनितिक स्वार्थ जुड़ा हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × one =