लखनऊ में डेंगू का डंक, स्कूलों में फुल यूनिफार्म में जायें बच्चे, बीएसए और डीआईओएस का आदेश

लखनऊ। राजधानी में डेंगू ने एक फिर से दस्तक दी है। इस बात की पुष्टिï होने के बाद शिक्षा विभाग की ओर अधिकारी भी एलर्ट हो गये हैं। इस संबंध में बेसिक शिक्षा अधिकारी डा. अमरकांत सिंह और जिला विद्यालय निरीक्षक डा. मुकेश कुमार सिंह ने प्री नर्सरी से लेकर कक्षा 12 तक सभी सरकारी और निजी स्कूलों के प्रधानाचार्यों को आदेश जारी कर दिया है, आदेश के मुताबिक सभी बच्चों को स्कूल में फुल यूनिफॉर्म पहन के जाना अनिवार्य होगा। इस बारे में जानकारी देते हुए बीएसए ने बताया कि स्कूल प्रबंधकों से कहा गया है कि किसी भी बच्चे को हॉफ यूनिफॉर्म में स्कूल आने रोका जाये। साथ ही बच्चों के अभिभावकों को भी एलर्ट किया जाये। वहीं जिला विद्यालय निरीक्षक ने बताया कि सभी स्कूलों के लिए आदेश जारी किया गया है कि वह बच्चों से कहे कि पूरी बाजू की शर्ट, पेैंट और छात्राओं के लिए सलवार कुर्ता और पैरो में जूते व मोजे पहनकर ही विद्यालय आयें।
मेडिकल व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के निर्देश
सभी स्कूल प्रबंधकों को मेडिकल व्यवस्था भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गये हैं। ताकि कोई भी बच्चा बीमार हो तो उसे तत्काल अस्पताल पहुंचाया जा सके। बीएसए ने बताया कि सभी बच्चों के माता पिता तक स्कूल प्रबंधन सूचना भेज दे कि वह अपने बच्चों फुल यूनिफॉर्म ही भेजे ताकि बाद में किसी भी समस्या का सामना न करना पड़े।
स्कूल में गंदगी मिली तो नपेंगे गुरूजी
सभी स्कूल प्रबंधकों को परिसर को साफ सुथरा रखने का भी निर्देश दिया गया है, जिला विद्यालय निरीक्षक डा. मुकेश कुमार सिंह ने कहा कि स्कूलों में यदि गंदगी पायी जाती है उसकी जिम्मेदारी स्कूल प्रबंधक और शिक्षकों की होगी। ऐसे में इस बात का ध्यान रखा जाये कि गंदगी न फैलने पाये। बीएसए ने कहा कि स्कूल प्रबंधक नियमित स्कूलों की सफाई करवाते रहे, साथ ही विद्यालय के गेट पर भी ध्यान रखे।
डेंगू के ये हैं लक्षण
-ठंड लगने के बाद अचानक तेज बुखार चढऩा
-सिर, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द होना
-आंखों के पिछले हिस्से में दर्द होना
हिलाने से और बढ़ जाता है
-बहुत ज्यादा कमजोरी लगना
– भूख न लगना और जी मितलाना
– मुंह का स्वाद खराब होना
-गले में हल्का.सा दर्द होना
डेंगू से बचने उपाय
घर या ऑफिस के आसपास पानी जमा न होने दें, गड्ढों को मिट्टी से भर दें, रुकी हुई नालियों को साफ करें। अगर पानी जमा होने से रोकना मुमकिन नहीं है तो उसमें पेट्रोल या केरोसिन ऑयल डालें। रूम कूलरों, फूलदानों का सारा पानी हफ्ते में एक बार और पक्षियों को दाना.पानी देने के बर्तन को रोज पूरी तरह से खाली करें, उन्हें सुखाएं और फिर भरें। घर में टूटे-फूटे डिब्बे, टायर, बर्तन, बोतलें आदि न रखें। अगर रखें तो उलटा करके रखें।डेंगू के मच्छर साफ पानी में पनपते हैंए इसलिए पानी की टंकी को अच्छी तरह बंद करके रखें। अगर मुमकिन हो तो खिड़कियों और दरवाजों पर महीन जाली लगवाकर मच्छरों को घर में आने से रोकें। मच्छरों को भगाने और मारने के लिए मच्छरनाशक क्रीम, स्प्रे, का इस्तेमाल करें। गुग्गुल के धुएं से मच्छर भगाना अच्छा देसी उपाय है। घर के अंदर सभी जगहों में हफ्ते में एक बार मच्छरनाशक दवा का छिडक़ाव जरूर करें। यह दवाई फोटो फ्रेम्स पर्दों, कैलेंडरों आदि के पीछे और घर के स्टोर.रूम और सभी कोनों में जरूर छिडक़ें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

12 − 6 =