Defense Expo: ने प्रदेश की छवि और प्रतिष्ठा को दी नई ऊंचाईयां,12 लाख दर्शकों ने हिस्सा लिया-सीएम योगी

लखनऊ। इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि  डिफेंस एक्सपो का सफल आयोजन कर प्रदेश की छवि और प्रतिष्ठा की नई ऊंचाइंया देने का कार्य किया है। उन्होंने डिफेंस एक्सपो 2020 को रक्षा महाकुंभ की संज्ञा देते हुए कहा कि इस रक्षा प्रदर्शनी में 3 हजार से ज्यादा विदेशी प्रतिनिधियों,10 हजार से ज्यादा भारतीय प्रतिनिधिमंडल और 12 लाख दर्शकों ने हिस्सा लिया और इसने उत्तरप्रदेश डिफेंस कॉरिडोर के विकास की मजबूत बुनियाद रखने का कार्य किया। रक्षा सचिव डॉ. अजय कुमार ने अपने संबोधन में डिफेंसएक्सपो को उत्कृष्ट निष्पादित कार्य बताते हुए कहा कि इस रक्षा प्रदर्शनी में आयोजित सभी समारोह बेहतर तरीके से संचालित एवं संपन्न हुए। उन्होंने कहा कि इस प्रदर्शनी ने उत्तरप्रदेश डिफेंस कॉरिडोर में निवेशकों की रूचि को जागृत  करने का कार्य किया।
डिफेंस एक्सपो को आज जनता के लिए खोले जाने के बाद भारी संख्या में दर्शक जिसमें बच्चे, वृद्ध, युवक, युवतियाँ और स्कूली छात्र, छात्राएं इस विशाल प्रदर्शनी को देखने के लिए आए एवं रक्षा उपकरणों तथा सशस्त्र सेनाओं के हैरतअंगेज कारनामों से रोमांचित हुए।
डिफेंसएकस्पो अगले पाँच वर्षों में प्राप्त होने वाले रक्षा निर्यातों के लिए प्रधानमंत्री द्वारा लक्षित 5 बिलियन अमेरीकी डॉलर के विकास का गवाह बना जो बदले में भारत को 5 ट्रिलियन अमेरीकी डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के उद्धेश्य को प्राप्त करने में मदद करेगा। यह भारतीय रक्षा उद्योगों को अति आवश्यक हथियार प्रदान करने वाले एक सफल नवोन्मेषक के रूप में, सबसे ज्यादा हथियार आयात करने वाले भारत के टैग को हटाने में मदद करेगा। प्रधानमंत्री ने रक्षा उत्पादन के क्षेत्र में अगले पाँच वर्षों में 15,000 से अधिक सूक्ष्म, लधु एवं मध्यम उद्यकी संख्या को लाने के लिए भी मार्ग तैयार किया।
डिफेंस एक्सपो 2020 में 07 फरवरी को आयोजित बंधन समारोह में 13 से ज्यादा उत्पादों को लॉन्च किया गया तथा यह सार्वजनिक उपक्रमों , निजी और वैश्वकि रक्षा निर्माण कंपनियों के बीच 124 से ज्यादा समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए जाने और भारत में आयोजित सबसे सफल एवं शानदार आयोजन होने का गवाह बना। रक्षा क्षेत्र के विभिन्न सार्वजनिक उपक्रमों , भारतीय निजी रक्षा कंपनियों तथा विदेशी कंपनियों के प्रतिनिधियों के द्वारा नवोन्मेष सहभागिता लक्ष्य वाले अनुबंधों पर नए सिरे से साझेदीरी करने और देश में रक्षा निर्माण के परिवर्तन के उद्देश्य से हस्ताक्षर किए गए। हस्ताक्षर किए गए समझौतों में से 23 उत्तर प्रदेश सरकार के थे। इन समझौता ज्ञापनों से राज्य में स्थापित किए जा रहे डिफेंस कॉरिडोर में 50,000 करोड़ रुपए के निवेश और 03 लाख रोजगार के अवसरों की संभावना हैं।

डिफेंसएक्सपो 2020 में भारतीय पैवेलियन ने भारतीय रक्षा उद्योगों द्वारा विकसित प्रौद्योगिकीय नवोन्मेषों तथा उत्पादों का प्रदर्शन किया। कृत्रिम आसूचना ऑगमेंटिड वर्चुअल रियलटी स्वातयशासी प्रणालियां, सैन्य वस्तुओं को इंटरनेट के साथ जोड़ना (प्वडज्) और उद्योग 4.0 जैसी प्रौद्योगिकी को भी पैवेलियन में दर्शाया गया।

भारतीय सशस्त्र बलों के द्वारा लखनऊ के दो स्थानों पर सजीव प्रदर्शन किए गए। डिफेंसएक्सपो स्थल पर दर्शकों को रोमांचित करते हुए भारतीय थलसेना और भारतीय वायु सेना ने सजीव प्रदर्शन किए और भारतीय नौसेना तथा भारतीय तटरक्षक बल ने गोमती नदी पर सजीव प्रदर्शन किए। भारतीय सेना के डेयरडेविल्स द्वारा अपनी बाईक पर प्रदर्शन करना, सूर्यकिरण जेट विमानों द्वारा उड़ान भरना, कमांड़ो प्रदर्शन तथा स्काई राइडिंग इत्यादि प्रदर्शनों ने दर्शकों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया।
डिफेंसएक्सपो ने भारतीय रक्षा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों  ईकाइयों को अपने तकनीकी नवोन्मेष तथा नए उत्पादों को दुनिया के सामने प्रदर्शित करने का एक अनूठा अवसर प्रदान किया। नए उत्पादों को और विकसित करने के लिए नई भागीदारी और सहभागिता से सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को लाभ हुआ।
डिफेंसएक्सपो 2020 के दौरान हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटिड को लाइट यूटिलिटी हेलिकॉप्टर के प्रारंभिक परिचालन मंजूरी प्रमाणपत्र  जारी करने के रूप में एक बड़ी घोषणा की गई। लाइट यूटिलिटी हेलिकॉप्टर  को चीता और चेतक हेलिकॉप्टर के प्रतिस्थापन के रूप में तैयार और विकसित किया गया है जो वर्तमान में भारतीय सशस्त्र बलों द्वारा प्रयोग में लाए जा रहे हैं। लाइट यूटिलिटी हेलिकॉप्टर 3-टन वर्ग में एक नई पीढ़ी का हेलिकॉप्टर है जिसमें अत्याधुनिक प्रौद्योगिक विशेषताएं शामिल हैं, जो आने वाले दशकों में हेलिकॉप्टर के इस वर्ग की जरूरतों को पूरा करेगा।
समापन समारोह में उत्तर प्रदेश सरकार के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना, रक्षा मंत्रालय के रक्षा उत्पाद विभाग के विशेष सचिव बरूण मित्रा, यूपिडा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटिड के मुख्य प्रबंध निदेशक माधवन आर समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

7 − one =