लखनऊ पुलिस को चुनौती दे रहे डकैत और हत्यारे, अब मलिहाबाद में डकैती और हत्या

लखनऊ। एक ओर जहां पुलिस अपराधियों का सफाया करने में जुटी हुई है वहीं दूसरी ओर यूपी की राजधानी लखनऊ में ही हत्यारे और डकैत पुलिस को खुलेआम चुनौती दे रहे हैं। पहले चिनहट उसके बाद नाका और काकोरी के बाद अब मलिहाबाद में डकैती के साथ पूर्व प्रधान के बेटे की हत्या कर दी गयी । ओपी सिंह के डीजीपी का चार्ज लेने के चंद घंटो के बाद ही डकैतों ने घटना को अंजाम दिया है। एक ओर योगी सरकार कानून व्यवस्था को लेकर बड़े-बड़े कदम उठाने का दावे कर रही है लेकिन प्रदेश की राजधानी में ही ऐसा हाल है तो अन्य जिलों में क्या दशा होगी इसका अंदाजा लखनऊ से ही लगाया जा सकता है।
मलिहाबाद कोतवाली व कस्बा चौकी के करीब पांच घरों में डकैतों ने धावा बोला। डकैतों ने इस दौरान पूर्व प्रधान के बेटे की हत्या भी कर दी। मलिहाबाद के सरावां और मुंशीगंज देर रात हुई घटना के बाद जहां लोगों में खौफ है वहीं पुलिस के प्रति आक्रोश भी है। यहां के रहने वाले प्रधान के बेटे श्यामू रावत की हत्या और बुजुर्ग छत्रपाल यादव को गोली मारकर घायल कर दिया। इस दौरान डकैत 12 लाख से अधिक की नगदी समेत जेवर भी लूट लिए।
गोलीबारी करते हुए भाग निकले डकैत
डकैतों ने इस दौरान एक दर्जन से अधिक लोगों को लाठी डंडो से पीट-पीट कर घायल भी कर दिया। उसके बाद जब भारी संख्या में ग्रामीणों ने डकैतों को दौड़ाया तो वह फायरिंग करते हुए भाग निकले। फायरिंग के बाद ग्रामीणों की हिम्मत भी जवाब दे गयी। ग्रामीणों ने श्याम रावत के हत्या के पीछे पुलिस की लापरवाही बताया है। ग्रामीणों का कहना है कि पुलिस गस्त नहीं करती है और डकैत आराम से अपना काम करके निकल जाते हैं।
ग्रामीणों ने जाम कर दी सड़क
हत्या और डकैतों के विरोध में मृतक का शव रखकर सड़क पर प्रदर्शन भी किया। इस दौरान ग्रामीणों ने श्यामू का शव रखकर हरदोई राजमार्ग जाम कर दिया। अधिकारियों के लिखित आश्वासन पर मामला शांत हुआ। लेकिन ट्रकों की लंबी लाइन लगने से लोगों को निकलने में भी दिक्कत हुई।
मृतक के बेटे ने बदमाशों की पहचान का किया दावा
पुलिस के सामने मृतक के बेटे जितिन ने बदमाशों की पहचान का दावा किया है। डकैती के दौरान श्यामू की हुई मौत के बाद बेटे जितिन को मोबाइल पर बदमाशों की फोटो दिखाकर सीओ अरुण के सिंह ने पहचान करायी तो बेटा पहचान गया है। जतिन को पुराने बदमाशों का एलबम दिखाया, उसने दो बदमाशों की पहचान का दावा किया है। चार संदिग्धों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है।

बदमाशों की तलाश में टीमों कों दबिश के लिए लगा दिया गया है। डकैतों का स्कैच भी बनवा दिया गया है। ऐसे में सीतापुर, हरदोई और दूसरे राज्यों में भी पुलिस को लगाया गया है। जल्द ही डकैत पुलिस की गिरफ्त में होंगे।
जयनारायण सिह, आइजी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

sixteen + twenty =