कोरोना से जंग: यूपी की 40 ईकायों में बनाये जा रहे मास्क, चल रही सभी आटा मीलें, दवा बनाने का भी काम जारी

न्यूज डेस्क। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण को हराने के लिए बड़े स्तर जंग शुरू हो चुकी है। सरकार से लेकर शासन प्रशासन तक अधिकारीं अलर्ट है। इसी बीच प्रदेश के प्रमुख सचिव सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम डॉ नवनीत सहगल ने बड़ी जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में मास्क बनाने वाली लगभग 40 इकाइयों में उत्पादन प्रारम्भ हो गया है तथा विभिन्न प्रकार के मास्क आज स्वास्थ्य विभाग को उपलब्ध करा दिये गये हैैंं, ऐसे में अब मास्क की उलब्धता मेें कोई कठिनाई नहीं होगी। उन्होंने बताया कि सभी सर्जिकल मास्क व पीपीई बनाने वाली इकाइयों में उत्पादन प्रारम्भ करने का विभाग द्वारा प्रयास किया जा रहा है। इसी क्रम में नोएडा की 2 इकाइयों में आज से उत्पादन प्रारम्भ गया है। इनमें से एक इकाई द्वारा 1500 एन-95 मास्क आज उपलब्ध भी करा दिया गया है। इसके साथ ही नोएडा में स्थित पीपीई किट बनाने वाली इकाइयों द्वारा भी उत्पादन प्रारम्भ कराकर लगभग 1100 पीपीई के मास्क आज चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को उपलब्ध करा दिये गये हैं।
प्रमुख सचिव ने बताया कि इकाइयों में उत्पादन क्षमता धीरे-धीरे बढ़ती रहेगी तथा प्रयास किये जा रहे है कि अधिक से अधिक पीपीई का निर्माण कराकर सरकार को उपलब्ध कराया जायेगा। उन्होंने बताया कि गाजियाबाद स्थित पीपीई की 3 इकाइयों द्वारा भी उत्पादन प्रारम्भ करने का प्रयास किया जा रहा है तथा इस संबंध में एमएसएमई विभाग द्वारा लगातार इकाइयों से समन्वय स्थापित किया जा रहा है।
400 जरूरी दवाओं का उत्पादन जारी
इलाज के लिए 400 ऐसी दवाएं जो कि सभी प्रकार के इलाज के लिए आवश्यक है, उन दवा की फैक्ट्रियों में उत्पादन चालू रखने का प्रयास किया जा रहा है तथा इस संबंध में उत्तर प्रदेश में स्थित 500 इकाइयों से अब तक सम्पर्क कर उनकी कठिनाई समझते हुए उसे दूर करने का प्रयास किया जा रहा है।
हेल्पलाइन पर भी ली जा सकती है मदद
प्रमुख सचिव ने बताया कि एमएसएमई विभाग द्वारा संयुक्त आयुक्त, उद्योग, लखनऊ के नेतृत्व में एक कण्ट्रोल रूम जिसका नं- 9627932213 व 9415467934 है संचालित किया जा रहा है। इसा ही दूरभाष-0522-2202893 के माध्यम से प्रदेश में आवश्यक वस्तुएं बनाने वाली इकाइयों का उत्पादन चालू रखने तथा उनका कार्य सुचारू रूप से चलाये जाने के संबंध में जिला प्रबन्धक, उद्योग विभाग के माध्यम से जिलाधिकारी के नेतृत्व में प्रयास किये जा रहे है।
सभी आटा मीलें चालू रखने के निर्देश
डा. सहगल ने बताया कि पिछले 2 दिनों में प्रदेश में सभी आटा मिलों को चालू रखने का प्रयास किया गया है तथा अधिकतम आटा मिलें चालू हो गयी हैं। 180 आटा मिलों से सम्पर्क कर भी लिया गया है। इस संबंध में खाद्य विभाग से निरन्तर समन्वय कर इन आटा मिलों को गेहूँ इत्यादि उपलब्धता सुनिश्चित कराई जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 + eleven =