सीएम साहब 13 सालों से आशियाना के नाम पर दौड़ा रहा रोहतास बिल्डर, आंवटियों ने सीएम के काफिले के आगे किया प्रदर्शन, सीएम ने दिया आश्वासन

लखनऊ। राजधानी में अकूत संपत्तियों के मालिक बन बैठे तमाम बिल्डर आवटियों को निशाना बना चुके हैं। आवंटियों की रकम के दम पर बिल्डर खुद तो मौज करते हैं और आवंटी अपना पैसा लगाने के बाद भी 15-15 सालों से किराये के मकानों में रहते हैं। आवंटी कभी सीएम से गुहार लगाते हैं तो कभी प्रशासनिक अफसरों से लेकिन उनकी सुध लेने वाला काोई नहीं है। ऐसे बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई की जिसके पास पूरी ताकत होती है उसतक आवंटी आसानी से पहुुंच भी नहीं पाते हैं शायद यही कारण है कि मुख्यमंत्री और उनके मंत्री जहां भी दिख जाते हैं आंवटी उनसे वहीं पर गुहार लगाने का प्रयास करते हैं। राजधानी में रविवार को कुछ ऐसा ही हुआ।                                          मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को समिट की तैयारियों का जायजा लेने गोमतीनगर के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान पहुंचे। जहां पर पहले से ही रोहितास बिल्डर के आवंटी तमामा संख्या में खड़े थे । इस उम्मीद में कि वह अपनी बात मुख्यमंत्री से कह सकेंगे। सीएम योगी की फ्लीट जैसे ही निकली आंवटियों ने फ्लीट के सामने ही प्रदर्शन कर सीएम से बात करने का प्रयास किया। तो पुलिस ने जैसे तैसे स्थिति को संभाल लिया। आंवटियों का आरोप है कि पिछले 13 सालों से रोहितास बिल्डर हम लोगों से पैसा खाकर बैठा हुआ है लेकिन उनको मकान नहीं दे रहा है। आंवटियों का ये भी कहना है कि 13 साल से मकान के लालच में हम लोग किराये के मकान में रहते हैं लेकिन हमारी सुनने वाला काोई  नहीं है।
सीएम ने कहा कि दोषी बख्‍‍‍‍शे नहीं जायेंगे
आंवटियों से सीएम मिल तो नहीं सके लेकिन अपनी गाड़ी में बैठे-बैठे आंवटियों का अभिवादन किया और उन्हें भरोसा दिलाया कि जल्द ही सख्त कार्रवाई होगी और आरोपियों को बख्शा नहीं जायेगा। सीएम का शायद ये भी इशारा था कि आवंट आपने घर को जायें जल्द ही समिट कार्यक्रम निपटने के बाद एक्शन लिया जायेगा।
तीन दर्जन से अधिक दर्ज है बिल्डर पर शिकायतें
आवंटियों ने बताया कि हजरतगंज कोतवाली में बिल्डर के खिलाफ तीन दर्जन से अधिक शिकायते दर्ज करायी जा चुकी हैं। लेकिन बावजूद अभी तक बिल्डर पर काोई भी कार्रवाई नहीं हुई। जिम्मेदार हुक्मरान प्रार्थना पत्र लेकर चुपचाप बैठ जाते हैं। आवंटियों का कहना है कि बिल्डर की पहुंच इतनी ज्यादा है कि आधिकारी भी उसके आगे बौने साबित हो जाते हैं।
एलडीए भी कुछ नहीं कर सका बिल्डर का
पिछले 13 सालों से आवंटी कभी यहां तो कभी वहां चक्कर लगा रहे हैं लेकिन उनकी सुनने वाला काोई नहीं है। एलडीए में भी आवंटियों ने गुहार लगायी लेकिन उनकी सुनने वाला काोई नहीं है। एलडीए के पास कई आवंटी अपनी लिखित शिकायत कर चुके हैं लेकिन उनकी सुनने वाला काोई नहीं।

आवंटियों को पता चला था सीएम आने वाले हैं
दरअसल 21 और 22 फरवरी को राजधानी में होने जा रही इंवेस्टर समिट की तैयारियों का जायजा लेने सीएम योगी इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान पहुंचे थे। रोहतास बिल्डर के आवंटियों को जब सीएम के आने की जानकारी मिली तो वह इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के पास पहुंच गए और प्रदर्शन करने लगे। फिर पुलिस ने किसी तरह से आवंटियो को संभाला लेकिन सीएम ने आवंटियों को निराश नहीं किया बल्कि एक उम्मीद उनके अंदर जगा दी है। अब क्या होताहै ये देखने वाली बात हीोगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

9 + six =