भाजपा के सांसद, विधायक भिड़े,समर्थकों में चले लातघूसे, डीएम व एसपी भी हुए हैरान

लखनऊ-सीतापुर। शनिवार को सीतापुर जिले में भाजपा के ही विधायक और सांसद के बीच ऐसा ईगो टकराया कि दोनो आपस में भिड़ गये। दोनो के भिड़ते ही उनके समर्थक भी आपस में भिड़ गये और जमकर एक दूसरे पर लात घूसे बरसाये यहां तक एक दूसरे पर कुर्सियां तक फेंकी। एक ही पार्टी के दोनो नेताओं की इस तरह जंग को देखकर जिसने भी देखा वह हैरान रह गया। सीतापुर में हुई इस जंग के बाद अब पूरे उत्तर प्रदेश में इस बात की चर्चा भी गरम हो गयी है।
दरअसल सीतापुर के महोली कस्बे में कंबल वितरण कार्यक्रम के दौरान ये पूरी घटना हो गयी। विवाद कंबल वितरण का स्थान बदलने को लेकर बताया जा रहा है। महोली तहसील के मीटिग हाल में शनिवार को कंबल वितरण कार्यक्रम में धौरहरा भाजपा सांसद रेखा वर्मा कंबल बांट रहीं थीं। इसी बीच महोली के भाजपा विधायक शशांक त्रिवेदी वहां पहुंचे और फिर उन्होंने वहां मौजूद प्रशासनिक अधिककारियोे से कंबल मीटिग हॉल के बाहर लगे पंडाल में बांटने को कहा। सांसद को विधायक की ये बात अच्छी नहीं लगी और नोकझोक शुरू हो गयी। नाराज सांसद ने एसडीएम ब्रजपाल सिह डांटा तो विधायक ने बीच में बोल दिया और बात बढ़ती चली गयी। यह देखते ही वहां मौजूद दोनों जनप्रतिनिधियों के समर्थक भड़क गए और आपस में मारपीट करने लगे।
सांसद, विधायक का मामला देख कुछ नहीं कर सके अधिकारी
सत्ताधारी पार्टी भाजपा के ही जब विधायक और सांसद आपस में भिड़ गये तो अधिकारी चाहकर भी कुछ नहीं कर सके। सारा माजरा चुपचाप मूकदर्शक बनकर देखते रहे। वहीं मौके पर मौजूद पुलिस कर्मी भी कुछ नहीं कर पाये। जबकि एक दूसरे को गालियां भी दी गयी यहां तक कुर्सियां भी फेंकी गयी।
डीएम, एसपी भी हुए हैरान
घटना की जानकारी मिलते ही डीएम डा. सारिका मोहन और एसपी आनंद कुलकर्णी मौके पर पहुंचे तो पूरा माजरा देखकर वह भी हैरान रह गये। देर शाम तक दोनों के मध्य चली समझौता वार्ता में जिलाध्यक्ष व प्रशासन के अधिकारियों ने सुलह कराई। इस दौरान उनके साथ भाजपा जिलाध्यक्ष अजय गुप्ता ने सांसद व विधायक के साथ एसडीएम कार्यालय में बैठक की। तब जाकर मामला सुलझ सका। हालांकि इस मामले में किसी ओर से रिपोर्ट दर्ज कराये जाने कभी सूचना नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen − eight =