बीबीएयू के 8वें दीक्षांत समारोह में शामिल हुए सेना प्रमुख ने कहा असफलता से निराश न हो, उससे प्रेरणा लेकर प्राप्त करे सफलता

-बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय के दीक्षंात में मेडल और डिग्री पाकर मेधावियों के खिले चेहरे
लखनऊ। हमारा देश तेजी से उन्नति कर रहा है और इसका श्रेय देश की सामाजिक कार्यप्रणाली को जाता है जिसमे एकता, समानता और भाईचारे का भाव निहित है। यही भाव मुझे बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर केन्द्रीय विश्वविद्यालय में देखने को मिलता है। हमारे नौजवान, हमारे देश का भविष्य हैं। यहां से आज जो विद्यार्थी उपाधि ग्रहण करके निकल रहे हैं उन्हीं में से कुछ इस देश के इतिहास में अपना नाम स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज कराएंगे। ये बात भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कही। सेना प्रमुख सोमवार को बीबीएयू के आठवे दीक्षांत समारोह के मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। इस दौरान उन्होंने सभी मेधावियों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि जिन्दगी में आगे बढऩे की दिशा में आपको बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। इस देश को प्रगति के पथ पर ले जाने की जिम्मेदारी आपके कंधों पर है और इस सफर में बहुत सी चुनौतियां आपके सामने आएंगी। जिसमें से कुछ चुनौतियों को पार करने में आप सफल होंगे और कभी आप असफल भी होंगे। मगर जब भी आप असफल हो, उस असफलता को अपनी प्रेरणा बनाएं और उससे सीख लेते हुए आगे बढ़े। उन्होंने अपने वक्तव्य में प्रधानमंत्री के भारत की अर्थव्यवस्था को 5 साल में 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने के सपने की चर्चा करते हुए कहा कि इसे पूरा करने में आप सभी को योगदान देना होगा। चुनौतियों का सामना करने के लिए मेहनत, लगन और ईमानदारी की जरूरत है। यह विश्वविद्यालय आने वाले दिनों में नई ऊंचाइयों पर पहुंचेगा। यहां से निकलने वाला हर नौजवान देश की प्रगति में हिस्सेदार बनेगा ऐसी मैं कामना करता हूं। समारोह में 2 विद्यार्थियों, स्कूल ऑफ अंबेडकर स्टडीज़ के हिस्ट्री डिपार्टमेंट के रोहित वर्मा, वर्ष 2019 और स्कूल ऑफ अंबेडकर स्टडी के मुंगमुरी क्रांथि कुमार को वर्ष 2018 के लिए आरडी सोनकर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
डा. ऑफ सांइस की मानद उपाधि से सम्मानित हुए मिलिंद प्रहलाद
समारोह में विशिष्ट अतिथि पद्मश्री मिलिंद प्रहालाद कांबले को विश्वविद्यालय की ओर से डॉ ऑफ साइंस की मानद उपाधि प्रदान की गई। पद्मश्री मिलिंद कांबले ने कहा कि मैं महाराष्टï्र से आता हूं जो कि बाबासाहेब, महात्मा फुले, छत्रपति साहू जी महाराज की भूमि है । यह विवि बाबासाहेब के नाम पर है जो कि शिक्षा के क्षेत्र में अपना अग्रणी योगदान दे रहा है। मैं बाबासाहेब के विचारों को मानने वाला व्यक्ति हूं और बाबासाहेब भारत के एक महान अर्थशास्त्री थे। उनके जीवन के इस पहलू पर काम करने के विचार से हमने एससी/एसटी वर्ग के आर्थिक विकास के लिए 2005 से कार्य करना शुरू किया। बाबासाहेब का मानना था कि देश मे आर्थिक समरसता होनी चाहिए मगर आज भी हम उस समानता को नही पा सके हैं।
शैक्षिक स्तर को सुधारने का होता रहेगा प्रयास-कुलपति
समारोह के दौरान कुलपति आचार्य संजय सिंह ने विश्वविद्यालय की प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत की। कुलपति आंठवें दीक्षांत समारोह में उपाधि ग्रहण करने वाले विद्यार्थियों को अपनी शुभकामनाएं देते हुए विवि के शैक्षणिक कार्यकलापों और उपलब्धियों से सभी को अवगत कराया। इसके साथ ही उन्होंने विवि द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न पाठ्क्रमों के बारे में बताया। उन्होंने इस वर्ष विभिन्न संस्थाओं के साथ हुए शिक्षा मसौदों के बारे बताया और कहा कि हमारा पूरा प्रयास है कि हम विवि के शैक्षणिक स्तर को और आगे ले कर जाए। विवि ने एमएचआरडी के एंटरप्राइज रिसोर्स प्रोजेक्ट के तहत ,ऑटोमेशन ऑफ एकैडमिक एंड एडमिनिस्ट्रेटिव प्रोसेस की शुरुआत की है। इससे प्रशासनिक और अकादमिक कार्यों को गति मिलेगी। समारोह के अंत मे कुलाधिपति महोदय द्वारा समारोह में प्रथम सत्र के समापन की औपचारिक घोषणा की गई।
वर्ष 2018 के इन मेधावियों को मिले मेडल
– स्कूल ऑफ अंबेडकर स्टडी से एम0 ए0 इकोनॉमिक्स के संजीव दुबे
– स्कूल ऑफ बायो साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी से एमएससी (एग्रीकल्चर) हॉर्टिकल्चर के आकाश शुक्ला
– स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी से बीटेक की तनुश्री
– स्कूल फॉर एनवायरमेंटल साइंसेस से बीएससी ऑनर्स जीयोलॉजी के शुभम मिश्रा
– स्कूल फॉर होम साइंसेस से एमएससी (एचडी एंड एफएस) की शिवानी सिंह
– स्कूल फॉर इंफॉर्मेशन साइंस एंड टेक्नोलॉजी से एमटेक सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की हिमांशु अग्रवाल
– स्कूल फॉर लैंग्वेजेस एंड लिटरेचर से एमए हिंदी के अतुल पांडे
-स्कूल फॉर लीगल स्टडीस से वन ईयर एलएलएम प्रशांत त्रिपाठी
-स्कूल फॉर मैनेजमेंट स्टडीज से बीकॉम ऑनर्स की अंकिता उपाध्याय
-स्कूल फॉर फिजिकल साइंसेज से एमएससी अप्लाइड मैथेमेटिक्स के जुबी सिद्दीकी
-स्कूल ऑफ एजुकेशन से बीएड के फर्याल अली
-सेंटर फॉर वोकेशनल एंड इंटीग्रल (सैटेलाइट कैंपस अमेठी) एलएलएम के विकास कुमार सिंह।
सत्र 2019 के लिए इन मेधावियों को मिले मेडल
– स्कूल फॉर अम्बेडकर स्टडीज से बीए (ऑनर्स) पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन के धर्मेन्द्र यादव
– स्कूल फॉर बायोसाइंसेस एण्ड बायोटेक्नोलॉजी एमएससी (एग्रीकल्चर) हार्टीकल्चर के रजाउद्दीन
– स्कूल फॉर इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलॉजी से बी टेक (मैकेनिकल इंजीनियरिंग) के सारांश तिवारी
– स्कूल फॉर एनवायरमेंट साइंस से इंटीग्रेटेड बीएससी-एम एससी (बेसिक साइंस) के हर्ष जोशी
-स्कूल फॉर होम साईंस से एमएससी फूड साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी की मानसी मंडल
– स्कूल फॉर इनफॉर्मेशन साइंस एंड टेक्नोलॉजी से मास्टर ऑफ कम्प्यूटर एप्लीकेशन की रश्मी दीक्षित
– स्कूल फॉर लैग्वेज एंड लिटरेचर से एमए हिन्दी की कुमारी सोनम तोमर
– स्कूल फॉर लीगल स्टडीज से बीबीए, एलएलबी( ऑनर्स) 2014-2019 के अमन दीप
– स्कूल फॉर मैनेजमेंट स्टडीस के बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की निहारिका तिवारी
– स्कूल फॉर फिजिकल साइंस से एमए सी एप्लाइड मैथेमैटिक्स की आयुषी श्रीवास
– स्कूल ऑफ एजुकेशन से बैचलर ऑफ एजुकेशन की कुमारी पूजा
– सेंटर फॉर वोकेशनल एंड इंटीग्रल स्टडीज (सैटेलाईट कैम्पस) से बीसीए की कुमारी अमृता सिंह

Posted by-Amrita/Ravi 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.