एम्स में सभी ओपीडी अगले आदेश तक बंद, लॉकडाउन के नियम तोड़ने वालों पर सख्ती के आदेश, केन्द्र सरकार ने राज्यों को दी जिम्मेदारी

न्यूज डेस्क। कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलो को देखते हुए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान या एम्स में सभी ओपीडी बंद कर दी गयी हैं, वहीं केन्द्र सरकार ने लॉकडाउन के नियमों का उल्लघंन करने वालों से सख्ती से निपटने के लिए आदेश राज्य सरकारों को दिया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एम्स में अब ऑपरेशन और ओपीडी दोनों बंद रहेंगी। सिर्फ आपातकालीन सेवाएं ही चालू रहेंगी। ये जानकारी एम्स के प्रतिनिधियों ने सोमवार को दी है।
एम्स मे होता है हजारो मरीजो का इलाज
एम्स में ओपीडी की सेवाएं बंद होने के बाद कई मरीजों के लिए परेशानी हो सकती है। लेकिन एम्स अधिकारियों का कहना है कि ये फैसला सुरक्षा को देखते हुए लिया गया है। इससे पहले एम्स प्रशासन रुटीन सर्जरी को बंद कर दिया एम्स के प्राइवेट वार्ड में 288 कमरे हैं। इसलिए प्राइवेट वार्ड को भी कोरोना के इलाज के लिए तैयार किया जा रहा है। एम्स ने ट्रॉमा सेंटर में बने न्यू इमरजेंसी सेंटर में भी 20 आइसोलेशन बेड तैयार किए हैं। साथ नवनिर्मित बर्न व प्लास्टि सर्जरी सेंटर में भी कोरोना के इलाज की व्यवस्था की गई है। साथ ही झज्जर स्थित राष्ट्रीय कैंसर संस्थान (एनसीआइ) में 125 बेड की व्यवस्था की गई है। दिल्ली के सभी बड़े अस्पताल रूटीन सर्जरी बंद कर चुके हैं और ओपीडी पंजीकरण का समय भी घटा दिया है।
राज्य लॉकडाउन का करायें पालन-केन्द्र
केंद्र ने सोमवार को राज्य सरकारों से कोरोना वायरस को रोकने के लिए लॉकडाउन को सख्ती से लागू करने के निर्देश दिए हैं। केंद्र ने राज्य सरकारों से लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई का निर्देश भी जारी किया है।पीआईबी के प्रधान महानिदेशक केएस धतवालिया ने एक ट्वीट में कहा कि राज्यों को उन क्षेत्रों में सख्ती से लागू करने के लिए कहा गया है जहां इसकी घोषणा की गई है। इसका उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 − 8 =