चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी की एडमिशन पॉलिसी जारी, कुलपति ने स्कॉलरशिप का भी किया ऐलान, पढि़ए क्या है यूनिवर्सिटी की खासियत

लखनऊ में चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी की प्रैस कांफ्रैंस दौरान कुलपति डा. आर.एस. बावा और यूनिवर्सिटी के अन्य अधिकारी।
एजुकेशन डेस्क( Ravi\ Amrita)। अपनी स्थापना तिथि से अब तक महज सात सालों में राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद  नैक से ए प्लस ग्रेड पाने वाली चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में सत्र 2020-21 के लिए एडमिशन पॉलिसी जारी कर दी गयी है। टॉप श्रेणी में आने वाली इस यूनिवर्सिटी में मौजूदा समय में यूपी के अलग-अलग जिलों से करीब साढ़े तीन हजार छात्र-छात्राएं शिक्षा प्राप्त कर रही हैं। इस बात की जानकारी यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर आरएस बावा ने गुरूवार को लखनऊ के निजी होटल में प्रेस कान्फ्रेंस करते हुए दी।
उन्होंने ए आर न्यूज टाइम्स से बातचीत में कहा कि सत्र 2020-21 सत्र में दाखिले की पॉलिसी जारी कर दी गयी है। उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी की ओर से 10 प्रतिशत छात्र-छात्राओं को स्कॉलरशिप भी प्रदान की जायेगी। बशर्ते उनका प्रतिशत यूनिवर्सिटी की ओर तय प्रतिशत के बराबर होना चाहिए। उन्होंने बताया कि प्रोफैशनल एजुकेशन क्षेत्र के बाद चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी की ओर से जनवरी-2020 से डिस्टैंस एजुकेशन में दाखिले की भी शुरूआत की गयी है।
उन्होंने बताया कि यूनिवर्सिटी ने अपने मजबूत और आधुनिक अकादमिक मॉडल, रिर्सच, शैक्षिक प्रबंधों, अंतर्राष्ट्रीय और इंडस्ट्री गठजोड़, विद्यार्थियों की कैंपस प्लेसमैंट, खेल और सांस्कृतिक क्षेत्र की प्राप्तियों के व्यापक मुल्यांकन के आधार पर देश की टॉप उच्च शिक्षा संस्थाओं में शामिल हो गई है। डा. बावा ने बताया कि साल-2012 में स्थापित हुई चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी को केवल सात सालों के दौरान ही उच्च शिक्षा संस्थाओं की मानक आधारित दरजाबंदी करने वाली राष्ट्रीय संस्था नैक (नैशनल अकरैडीटीएशन असेसमैंट काऊंसिल) की ओर से ए़ ग्रेड प्लस की संस्था का दर्जा दिया है।
यूपी से 3215 लखनऊ से 309 बच्चों ने लिया दाखिला
उप कुलपति ने बताया कि बीते सात सालों दौरान चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में यूपी के विद्यार्थियों की संख्या में 60 प्रतिशत हो चुकी है। मौजूदा समय में यूपी के अलग-अलग हिस्सों में से कुल 3215 विद्यार्थी अलग-अलग प्रोफैशनल कोर्सों में उच्च शिक्षा हासिल कर रहे हैं, जिनमें लखनऊ से 309 विद्यार्थी शामिल हैं।
109 कोर्सों में 100 प्रतिशत मिलेगी स्कॉलरशिप
डा. बावा ने आज लखनऊ में चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी घड़ुंआं के अकादमिक सैशन 2020-21 के लिए नई दाखिला नीति का ऐलान करते हुए बताया कि यूनिवर्सिटी में नए सैशन से इंजीनियरिंग और एम.बी.ए. प्रोग्रामों में दाखिले के लिए सी.यू. सी.ई.टी दाखिला परीक्षा अनिवार्य कर दी है और ऑनलाइन ली जाने वाली दाखिला प्रक्रिया के मैरिट के आधार पर विद्यार्थियों को अलग-अलग कोर्सों में दाखिला मिल सकेगा। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय स्तर पर होने वाली इस दाखिला परीक्षा के आधार पर मैरिट प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को 109 कोर्सों में 100 प्रतिशत तक स्कॉलरशिप प्रदान की जायेगी।
स्कॉलरशिप के लिए 27 करोड़ का बजट
डॉ बावा ने बताया सभी जरूरतमंद छात्रों को मिल सके यह पूरा प्रयास शुरूआत से ही रहा है। उन्होंने कहा स्कॉलरशिप के लिए यूनिवर्सिटी की ओर से 27 करोड़ का बजट आरक्षित किया गया है। स्कॉलरशिप के लिए वही छात्र-छात्राएं पात्र होंगे जिनका प्रतिशत अच्छा होगा। यूनिवर्सिटी की दाखिला प्रक्रिया और अलग-अलग स्कॉलरशिप स्कीमों के बारे और ज्यादा जानकारी के लिए लखनऊ के गोमती नगर में स्थित यूनिवर्सिटी के रीजनल सैंटर से प्राप्त की जा सकती है।
इस तरह तीन चरणो में शुरू होगी दाखिले की प्रक्रिया
पहला चरण-20 दिसंबर छात्र रजिस्टेशन करवा सकते हैं।
दूसरा चरण-1 जनवरी से अप्रैल तक छात्र रजिस्टेशन करवा सकते हैं।
तीसरा चरण-मई से जुलाई तक छात्र रजिस्टेशन करवा सकते हैं।
-विद्यार्थी घर बैठे ही ऑनलाइन टैस्ट दे सकते हैं।
-यूनिवर्सिटी की वेबसाइट-http:\\cucet.cuchd.in
यूनिवर्सिटी में नये प्रोग्रामों की हुई शुरूआत
देश के विद्यार्थियों को इंडस्ट्री की बदलती मांग को ध्यान में रखते हुए चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी ने न्यू ऐज प्रोग्रामों की शुरूआत की है जिनमें आर्टिफिशियल इटैंलीजैंस और मशीन लर्निंग, बिजनेस ऐनालीटिस, बिग डेटा, बैकिंग और फानीशियल इंजीनियरिंग, मैकाट्रोनिक इंजीनियरिंग, फूड टै1नोलॉजी इंजीनियरिंग, पैट्रोलियम इंजीनियरिंग आदि शामिल हैं। डा. बावा ने बताया कि यूनिवर्सिटी की तरफ से विश्व स्तर पर समय के साथ फ्लैकसीबल अकादमिक मॉडल अपनाया गया है जिसके फलस्वरूप विद्यार्थियों और अध्यापकों ने हर क्षेत्र में रिकार्ड कायम किए हैं। उन्होंने बताया कि यूनिवर्सिटी ने एक साल में ही 627 बड़ी कंपनियों का विद्यार्थियों को कैंपस प्लेसमैंट प्रदान किया है।
डिस्टैंस एजुकेशन प्रोग्राम भी होंगे संचालित
यूनिवर्सिटी के उप कुलपति ने बताया कि प्रोफैशनल एजुकेशन के क्षेत्र में विद्यार्थियों को उच्च कोटी की अकादमिक सेवाओं के बेहतरीन प्रदर्शन के बाद यूनिवर्सिटी ग्रांटस कमीशन (यू.जी.सी) की तरफ से चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी घड़ंआं को डिस्टैंस एजुकेशन प्रोग्रामों के लिए मंजूरी मिल गई है। जिसके अंतर्गत जनवरी 2020 सैशन से डिस्टैंस एजुकेशन में बी.बी.ए, एम.बी.ए, बी.सी.ए, एम.सी.ए, बी.कॉम, एम.कॉम, बी.ए., एम.ए. (इंग्लिश), एम.ए. (साईकोलॉजी), बैचलर आफ साइंस (ट्रैवल एंड टूरिज्म) कोर्सों के लिए दाखिला प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

Posted by-Ravi\Amrita

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 5 =