निजी स्कूलों में निशुल्क दाखिले के लिए 58 हजार आवेदन, लखनऊ और वाराणसी सबसे आगे

file photo

न्यूज डेस्क। शिक्षा का अधिकार अधिनियम आरटीई के तहत निजी स्कूलों में गरीब बच्चों के निशुल्क दाखिले के लिए अभी तक 58 हजार आवेदन आये हैं। दो मार्च से शुरू हुई आवेदन प्रक्रिया के तहत 18 दिनों में 58 हजार 718 आवेदन आये हैं, ये अलग-अलग जिलों के आकड़े हैं, इसमें लखनऊ जहां और वाराणसी सबसे आगे है। लखनऊ में 8071 आवेदन, वाराणसी में 9002 दो आवेदन हैं, आरटीई में 18 दिनों में आए 58 हजार से अधिक आवेदन आगरा व नोएडा में तीन-तीन हजार आवेदन और गाजियाबाद, कानपुर व मिर्जापुर में दो हजार से अधिक आवेदन हो चुके हैं। वहीं, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में फीस प्रतिपूर्ति के लिए स्कूलों ब्योरा फीड होना शुरू हो गया है।
निजी स्कूल प्रबंधन दाखिले का कर रहे हैं विरोध
वहीं दूसरी ओर निजी स्कूल प्रबंधन आरटीई के तहत दाखिला लेने के लिए तैयार नही हैं। लखनऊ से लेकर सीतापुर, व वाराणसी समेत कई ऐसे जिले हैं जहां निजी स्कूल प्रबंधकों का आरोप है कि बच्चों का मिलने वाला सरकार से बजट समय से नहीं दिया जाता है जिसके चलते स्कूल प्रबंधनों का बजट गड़बड़ाता है। वही ंअधिकारियों का कहना है कि बजट में देरी हो सकती है लेकिन किसी भी प्रबंधक को परेशान होने की जरूरत नहीं है।
दाखिला न लेने वालों पर होगी कार्रवाई
इस बारे में जानकारी देते हुए बेसिक शिक्षा निदेशक डाॅ सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह कहते हैं कि आरटीई के तहत निजी स्कूल में दाखिले लिए चयनित बच्चे का दाखिला यदि कोई स्कूल प्रबंधन मना करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी मान्यता भी जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eighteen − 11 =