इटावा में 55 फर्जी शिक्षक मिलें, दर्ज होगी एफआईआर, जायेंगे जेल

इटावा। फर्जी बीएड डिग्री के मामले में इटावा के शिक्षा विभाग में उस समय हड़कंप मच गया जब विभाग ने 55 फर्जी शिक्षकों को चिन्हित करते हुए उनका खुलासा कर दिया। इस मामले में दोषी पाए गए शिक्षकों पर कार्रवाई तय है। इस बारे में लखनऊ से बेसिक शिक्षा निदेशक सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर सिंह ने बताया कि ऐसे शिक्षकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी जायेगी। इसके बाद इनको जेल की भी हवा खानी पड़ सकती है। उन्होंने बताया कि वेतन भी रिकवर कराया जायेगा। बता दें जिले में अब तक 55 शिक्षकों को इस मामले में चिन्हित किया जा चुका है। इस बारे में बीएसए इटावा ओपी सिंह ने भी पुष्टि कर दी है। बीसए ने बताया कि यह संख्या अभी और भी बढè सकती है। फिलहाल चिन्हीकरण का काम जारी है जो जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा।  दरअसल बेसिक शिक्षा विभाग के स्कूलों में प्रदेश भर में कई हजार ऐसे शिक्षकों के कार्यरत होने का मामला सामने आया था, जिन्होंने आगरा विश्वविद्यालय से फर्जीबाड़ा कर बीएड की डिग्री लगाई है। यह डिग्री वर्ष 2००5 की है। यह मामला पकड़े जाने के बाद सभी जिलों में ऐसे शिक्षकों की खोजबीन शुरू हुई तो फर्जी डिग्री के साथ ही नंबरों में हेराफेरी करने का मामला भी सामने आया। इटावा में पिछले सप्ताह शिक्षा विभाग के निर्देश पर ऐसे शिक्षकों को चिन्हित किए जाने की कार्रवाई शुरू की गई थी, जो अब पूरी होने जा रही है। चिन्हीकरण के बाद इन पर कार्रवाई तय है। शासन के निर्देश पर ऐसे शिक्षकों के विरुद्घ एफआईआर कराई जानी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 + 11 =