सेना में भर्ती के लिए बनवा देते थे फ़र्ज़ी प्रमाण पत्र

  • फर्जी प्रमाणपत्र बनवाकर सप्लाई करने वाले तीन गिरफ्तार
  • एटीएस को मिली एक और बड़ी कामयाबी

लखनऊ। सेना में भर्ती के लिए फर्जी प्रमाण पत्र बनवाकर देने वाले गिरोह के तीन सदस्यो को यूपी एटीएस ने धर दबोचा है। इस बारे मंे यूपी एटीएस आईजी असीम अरूण ने इंडिया न्यूज टाइम्स डॉट इन को बताया कि 3 अभियुक्तों को सेना में भर्ती होने वाले नेपाली युवकों एवं दलालों को फर्जी शैक्षणिक प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने के आरोप में वाराणसी से गिरफ्तार किया है । उन्होंने बताया कि इन अभियुक्तों की गिरफतारी बीते दिन वाराणसी से गिरफ्तार नेपाली नागरिक दिलीप तथा चंद्र बहादुर पुलिस कस्टडी रिमाण्ड के दौरान पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर की गई। जिसमंे जानकारी मिली है कि नागेश्वर मौर्या की वाराणसी में कचहरी पर नारायण इंटरप्राइजेज के नाम से दुकान है जहां फोटो स्टेट प्रिंटिग एवं टाइपिग आदि का कार्य होता है। नागेश्वर की दुकान पर नौकरी का करने वाला अवध प्रकाश उर्फ बबलू मोर्य इसी दुकान से फर्जी मार्कशीट आदि बनाता था तथा उसे नागेश्वर का संरक्षण रहता था। अजय कुमार सिह इसी दुकान से फर्जी मार्कशीटो तथा प्रमाण पत्रों को पैसे देकर बनवाता था। अजय कुमार पूर्व में एटीएस द्बारा गिरफ्तार चंद्र बहादुर खत्री का प्रमुख दलाल है जो खत्री को फर्जी शैक्षणिक प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने का कार्य करता है। उन्होने बताया कि अजय एक मार्कशीट ,सनद बनवाने के बदले लगभग 15०० रुपए चंद्र बहादुर खत्री से प्राप्त करता था तथा उसमें से अवध प्रकाश उर्फ बबलू मौर्य को भी 3००, 4०० देकर मार्कशीट सनद प्राप्त करता था। चंद्र बहादुर खत्री हाई स्कूल तथा इंटर के प्राप्त मार्क सीटों को नेपाली युवकों को देकर उन्हें सेना में भर्ती कराने का कार्य करता था। हाईस्कूल तथा इंटर की मार्कशीट के बदले चंद्रबहादुर खत्री इसके एवज में लाखों रुपए की लेता था । अभियुक्तों के पास से बरामद शैक्षणिक प्रमाण पत्रों को शिक्षा बोर्ड से वेरीफाई कराया जा रहा है। सेना में भर्ती विष्णु लाल भट्टा राय (दिलीप) को भी इसी ने ही फर्जी प्रमाण पत्र आदि उपलब्ध कराए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × 4 =