लखनऊ में 416 शिक्षकों का वेतन फ्रीज, 2० शिक्षक पदावनत

लखनऊ। लखनऊ में 416 शिक्षकों का वेतन फ्रीज किया गया है जबकि 2० शिक्षकों को पदावनत कर दिया गया है। यह जानकारी हाईकोर्ट को बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रवीण मणि त्रिपाठी ने दी है। बेसिक शिक्षा विभाग ने यह कार्रवाई हाईकोर्ट का आदेश लागू होते ही की है। बीएसए ने बताया कि ये सभी शिक्षक एससी एसटी वर्ग के हैं। इनको नौकरी के दौरान आराक्षण के तहत प्रोन्नति के साथ वेतनमान में वृद्धि का लाभ भी दिया गया था।
गुरुवार को बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रवीण मणि त्रिपाठी की ओर से हाईकोर्ट को बताया गया कि उन्होंने कार्रवाई करते हुए जिन शिक्षकों को आराक्षण का लाभ देकर पदोन्नति दी गयी थी उन सभी शिक्षकों पर कार्रवाई की गयी है।
आराक्षण के लाभ में प्रधानाचार्य बन गये थ्ो शिक्षक
इस बारे में जानकारी देते हुए बीएसए ने बताया कि आराक्षण का लाभ उठाकर प्राथमिक के के सहायक अध्यापक पद के शिक्षक जूनियर और जूनियर के शिक्षक प्रधानाचार्य पद पर पदोन्नति प्राप्त कर लिए थ्ो। जिसके बाद दूसरे वर्ग के शिक्षकों की ओर से इसका विरोध शुरू हो गया था। कुछ शिक्षक इसके विरोध में न्यायालय भी चले गये थ्ो। जिसके बाद कोर्ट के आदेश पर बीएसए को इस पर एक्शन लेना पड़ा।
इन ब्लाक के स्कूलों के है शिक्षक
जिन शिक्षकों को वेतन फ्रीज किया गया है उनमें सरोजनी नगर, मलिहाबाद, बीकेटी, मोहनलालगंज, काकोरी, माल और गोसाईगंज शामिल है।
वेतन रहेगा बरकरार
हाईकोर्ट ने जिन शिक्षकों को पदावनत करने का आदेश दिया है उनका वेतन अभी बरकरार रखने को कहा है। ऐसे में कहा जा सकता है कि ऐसे शिक्षक पूर्व पद पर भ्ोजे जायेंगे। लेकिन वर्तमान वेतन का लाभ मिलता रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

thirteen + five =